" -------------------------------------अपने माथे चंदन " !!

बिगड़ी बनती सरकारें हैं , कैसे हैं गठबंधन !
आज अछूत हुए वे अपने , करते थे अभिनन्दन !!

वोट साथ में मांगे थे , अब राहें बदल गई हैं !
उनके माथे काला टीका , अपने माथे चंदन !!

प्रेसवार्ता होती घर पर , सबको सुनना भर है !
यहां नाम पर अब भी देखो , होता महिमामंडन !!

डूब गए आकंठ यहां पर , भष्टाचार न छूटा !
वोटों के दम हैं पर मिलते ,यों बहुतेरे नमन !!

अपनी छवि को आज निहारें , दागी ना कहलाएं !
बीस माह से झूल रहा था , यहां महागठबंधन !!

एक दूजे पर दोषारोपण , कौन आइना देखे !
नैतिकता ने दम तोड़ा है , झूंठे हैं आलिंगन !!

कौन है सच्चा कौन है झूंठा , जनता विवश खड़ी है !
कुर्सी पर बैठी है सत्ता , लुटता केवल जन मन !!

रोज़ यहां बिछती है चौसर , राजनीति की चौखट !
अनहोनी होनी बन जाये , जन देखे परिवर्तन !!

मोहपाश सत्ता का ऐसा , तजना बड़ा कठिन है !
कांटों के संग फूल यहां पर , महके नंदन वन है !!

बृज व्यास

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 150

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share