Skip to content

” ————————————-अपने माथे चंदन ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

July 27, 2017

बिगड़ी बनती सरकारें हैं , कैसे हैं गठबंधन !
आज अछूत हुए वे अपने , करते थे अभिनन्दन !!

वोट साथ में मांगे थे , अब राहें बदल गई हैं !
उनके माथे काला टीका , अपने माथे चंदन !!

प्रेसवार्ता होती घर पर , सबको सुनना भर है !
यहां नाम पर अब भी देखो , होता महिमामंडन !!

डूब गए आकंठ यहां पर , भष्टाचार न छूटा !
वोटों के दम हैं पर मिलते ,यों बहुतेरे नमन !!

अपनी छवि को आज निहारें , दागी ना कहलाएं !
बीस माह से झूल रहा था , यहां महागठबंधन !!

एक दूजे पर दोषारोपण , कौन आइना देखे !
नैतिकता ने दम तोड़ा है , झूंठे हैं आलिंगन !!

कौन है सच्चा कौन है झूंठा , जनता विवश खड़ी है !
कुर्सी पर बैठी है सत्ता , लुटता केवल जन मन !!

रोज़ यहां बिछती है चौसर , राजनीति की चौखट !
अनहोनी होनी बन जाये , जन देखे परिवर्तन !!

मोहपाश सत्ता का ऐसा , तजना बड़ा कठिन है !
कांटों के संग फूल यहां पर , महके नंदन वन है !!

बृज व्यास

Share this:
Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended for you