" अपने कहीं मिले " !!

गीत

कहीं बाग हैं सूने ,
कहीं प्रसून खिले !
मिले गले हरियाली ,
खुशबू वहीं पले !!

अनुबंधों में सबके ,
रिश्ते कसे लगे !
पाना था कुछ ही को ,
बाकी गये ठगे !
कसक सभी को होती ,
अपने कहीं मिले!!

भाये महक सुहानी ,
बंधन कसे कसे !
रूप रंग का मद भी ,
बहुधा यहां डसे !
कौन करे परवाह ,
गढ़ते रहो किले !!

हिलते लगे धरातल ,
बिखरे से विश्वास !
झूले सदा पालने ,
वही टूटती आस !
खुश रहना है रह लो ,
खत्म न होय गिले !!

स्वरचित / रचियता :

बृज व्यास
फरीदाबाद

Like 1 Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing