अपनी बिटिया के लिए ।

चौपाई आधारित गीतिका ।
16,16 मात्राओं की यति पर चार चरण।

अतिप्रिय मेरी चपल बालिका ।
अंक-गणित की अंक-तालिका।
उचित रसायन यह जीवन का ,
यही भौतिकी मनोभाविता ।

हिन्दी का यह उपन्यास है ।
मुस्कानों की लघु-नाटिका ।
चंचलता की अज़ब कहानी,
मम कविता की मृदुल-साधिका ।

बोले तो जैसे रामायण ।
उछल-कूँद है जैसे गीता ।
रूठे तो सावित्री जैसी ,
मान जाए तो लगती सीता ।

वनस्पति-विज्ञान जो मेरा ,
उसकी है यह लघु-वाटिका ।
जीव-शास्त्र मेरे आँगन का ,
यही वेद है, यही संहिता ।

माँगें इसकी अर्थशास्त्र हैं ।
मेरे मन को सदा ही भातीं ।
रुचियाँ इसकी राजनीति हैं ,
जो मुझको जीवन सिखलातीं ।

यह कुऱान है,यही बाइबिल ।
गुरू-ग्रंथ का सार यही है ।
कुहके बिटिया कोयल जैसी ,
जीवन का उद्धार यही है ।

इँग्लिश के अक्षर-सी टेढ़ी ।
उर्दू-सी यह उल्टी दिखती ।
यही मंत्र है, यही त्राृचा है,
यह श्लोक-़सी बातें लिखती ।

बँगला का यह राष्ट्र-गीत है ।
गुजराती का यही भजन है ।
सिर पर है कश्मीरी टोपी ,
मीरा-सी यह मधुर-लगन है ।

गंगा-सी निर्मलता इसमें ।
रेवा की यह सुंदर घाटी ।
क्षिप्रा की यह सजल धार है,
यमुना-सी यह व्रज की थाती ।

जिस घर में बेटी न होती ,
वह घर सूना-सा हो जाता ।
दया,धर्म,ममता,अपनापन ,
उस घर से जैसे खो जाता ।

बिटिया ही मेरा बेटा है ।
यही भारती,धर्म-नायिका ।
यही अर्चना, यही वंदना ,
मम जीवन की मधुर-गायिका ।

अतिप्रिय मेरी चपल बालिका ।
अंक-गणित की अंक-तालिका ।
उचित रसायन यह जीवन का ,
यही भौतिकी मनोभाविता ।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 984

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share