Skip to content

“अपनी परंपरा और पीढ़ी को नजरंदाज कर रहे आज के युवा”

अमित मिश्र

अमित मिश्र

लेख

October 9, 2017

आज हम जिस समाज में रहते हैं उसे पढ़े लिखे सभ्य समाज की उपमा दी जाती है। हमारा हर काम सोच समझकर पूरे निरीक्षण परीक्षण के साथ सम्पन्न होता है। हम अपनी संस्कृति पर गर्व करते हैं। इन सब अच्छी बातों के बीच आज हम बहुत कुछ खोते जा रहे है, वह है संस्कार, अपनी परम्पराए रहन सहन का वह तरीका जिसमे एक परिवार में कई रिस्ते देखने को मिलते थे। आज का परिवार पति-पत्नी और बच्चों तक ही सीमित होकर रह गया है, परिवार में अच्छे बुरे की पहचान कराने वाली बूढ़ी दादी और दादा की कोई जगह नही बची है, बूढ़ी दादी जो स्वयं चलने को मजबूर होते हुए अपने पौत्र को गोदी में लेकर सौ बलाए लेती है आज उसी को युवा पीढ़ी नजरअंदाज कर रही है क्या यही हमारी प्रगति है? क्या यही हमारी नई सभ्यता है? इसी पर हम गर्व करते हैं एक बार हमें सोचना चाहिए यह कैसी प्रगति है हमारी, जो हमे अपनो से दूर करती जा रही है। हमारे पास सुख सुविधाओं के सभी अत्याधुनिक साधन होने के बाद भी नींद की गोलियां खानी पड़ रही है क्यों ? क्योंकि आज हमारे सिर पर स्नेह भरा वह मां का हाथ नहीं है और जिसके पूर्ण जिम्मेदार स्वयं हम हैं ।हमने अपने जीवन को व्यस्त नहीं वास्तव में अस्त व्यस्त बना लिया है हम अपनो को छोड़कर भौतिक सुखों के पीछे भाग रहे है जो सुख तो दे सकता है लेकिन सुकून कभी नहीं दे सकता।

आज की नई युवा पीढ़ी एकल परिवार को ज्यादा पसंद करती है आखिर क्यों? ऐसा क्या दिया है एकल परिवार ने। जहां तक मेरा निजी मानना है आज की युवा पीढ़ी अपनी जिम्मेदारी से भाग रही है उसे विलासिता का जीवन अच्छा लगता है अपनी निजी जिंदगी में किसी की दखलंदाजी उसे बर्दास्त नही, और यहीं सोच उसे आगे चलकर एक दिन एकाकी जीवन बिताने के लिए मजबूर कर देती है और फिर आरम्भ होता है बीमारियों का आना जाना जिसमे सबसे प्रमुख है तनाव जिसे हम टेंसन नाम से भी जानते हैं और यह जीवन पर्यंत चलने वाली बीमारी इंसान को तिल तिल कर मारती रहती है वह अपने मन की ब्यथा किसी के साथ साझा भी नही कर पाता क्योंकि साझा करने वाले सभी व्यक्ति उसने न जाने कब के अपने जीवन से दूर कर दिए होते हैं। व्यक्ति को तब समझ में आता है कि परिवार का हमारे जीवन मे क्या महत्व होता है लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। और वह उस स्थिति में पहुंच चुका होता है जहाँ से उसके बस का कुछ नहीं रहता। इसलिए समय रहते हमे सचेत होना चाहिए ईश्वर के स्वरूप अपने माता पिता का जितना संरक्षण मिल सके उसे प्राप्त करना चाहिए क्योंकि वह अगर एक बार हमसे दूर हो गए फिर तो दुनिया की ताकत हमे उनसे नहीं मिला सकती।

Share this:
Author
अमित मिश्र
अमित मिश्र शिक्षा - एम ए हिंदी, बी एड , यू जी सी नेट पता- 73 नारायण नगर जनपद हरदोई (उत्तर प्रदेश) जवाहर नवोदय विद्यालय वेस्ट खासी हिल्स मेघालय में कार्यरत । मोबाइल नंबर 9838449099 ई मेल amitkumarmishra0001@gmail.com

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you