.
Skip to content

निज उर-तकदीर पर

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

मुक्तक

March 17, 2017

रो मत जग-पीर पर|
सुबुधि, ज्ञान-तीर कर|
आत्म-सुख लिखो स्वयं|
निज उर-तकदीर पर|

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता
नि – सुभाष नगर कोंच -285205

उर=हृदय

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
रेखाओं  के खेल
लक्ष्मण रेखा तोड़कर सिया के उर थी पीर रेखाओं के खेल ये कौन बंधाता धीर कुछ हद तक बंधन भी उचित हुआ करते हैं आज... Read more
जो पकड़े वह उर  बने, गहन सहजता हर्ष|/ निज को जानो, तब मिले, प्रीति ह्रदय का सिंधु|
संस्कृति प्रेमाकाश सह, दिव्य ज्ञान-उत्कर्ष| जो पकड़े, वह उर बने, गहन सहजता-हर्ष|| मत भटको, निर्मल बनो, पकड़ चेतना -बिंदु| निज को जानो, तब मिले, प्रीति-हृदय... Read more
हिन्दी के प्रति...
जन-जन की है भाषा हिन्दी, प्रीति की है परिभाषा हिन्दी! ००० निज गौरव-इतिहास रचेगी, भारत की है आशा हिन्दी! ००० जो अनभिज्ञ हैं,उनकी ख़ातिर- उर... Read more
दो शरीर एक श्वांस हैं हम, एक दूजे के खास हैं हम। दूर भले हम कितने रह लें, दिल के मगर अति पास हैं हम।... Read more