" अपनी अपनी पोथी , अपना अपना भाष " !!

कम, पढ़े -लिखे गुणी हैं ज्यादा ,
पढ़े -लिखों ने सब कुछ नापा /
संतों की महिमा है न्यारी ,
अलख जगाया , दुनिया वारी /
जहाँ भूख कम होगी –
ज्यादा है उपवास //

अब, बहू-बेटे में प्यार पले है ,
वृद्धाश्रम खूब, फले फूले हैं /
बेटे नहीं , बेटियां प्यारी ,
महके आँगन , घर , फुलवारी /
है नई चेतना जागी –
परिणामों की आस //

यहाँ ,राजनीति के दांव नये हैं ,
कभी जीते कभी छले गए हैं /
शकुनि के पांसे चलते हैं ,
सत्ताधारी हमें छलते हैं /
अंधियारे जब जब सिमटे –
फैल गया प्रकाश //

सपनों, का खेल लगे न्यारा है ,
हाथ हमारे इकतारा है /
खोना – पाना अब खेल यहाँ ,
किस्मत ले जाये जाने कहाँ /
पतझड़ जब बीत चले –
तब आयेंगे मधुमास //

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 423

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share