.
Skip to content

” अपनी अपनी पोथी , अपना अपना भाष ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

कविता

January 21, 2017

कम, पढ़े -लिखे गुणी हैं ज्यादा ,
पढ़े -लिखों ने सब कुछ नापा /
संतों की महिमा है न्यारी ,
अलख जगाया , दुनिया वारी /
जहाँ भूख कम होगी –
ज्यादा है उपवास //

अब, बहू-बेटे में प्यार पले है ,
वृद्धाश्रम खूब, फले फूले हैं /
बेटे नहीं , बेटियां प्यारी ,
महके आँगन , घर , फुलवारी /
है नई चेतना जागी –
परिणामों की आस //

यहाँ ,राजनीति के दांव नये हैं ,
कभी जीते कभी छले गए हैं /
शकुनि के पांसे चलते हैं ,
सत्ताधारी हमें छलते हैं /
अंधियारे जब जब सिमटे –
फैल गया प्रकाश //

सपनों, का खेल लगे न्यारा है ,
हाथ हमारे इकतारा है /
खोना – पाना अब खेल यहाँ ,
किस्मत ले जाये जाने कहाँ /
पतझड़ जब बीत चले –
तब आयेंगे मधुमास //

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
हसरते दिल की(गज़ल)
हसरते दिल की/मंदीप हर किसी की मुस्कुराहट सच्ची होती नही, बिना दर्द के कभी आँखे रोति नही। अगर दिल ना धड़के किसी के लिए, वो... Read more
बेटी और बेटे में भेद क्यूँ होता ?
??????? बेटी और बेटे में भेद क्यूँ होता ? बहुत सोचा पर समझ नहीं आता ! ??????? कहते बेटा कुल का वारिश है , पर... Read more
शेर जो दे *आपके तंत्र को नया आयाम*
**पत्थरों के खोजी, उंगलियों में नीलम पहनते हैं, सुना है हर किसी को, माफिक नहीं आते, फैले है लाखों तौर-तरीके, उस एक ईश की खोज... Read more
तुम्हारे जन्मदिन पर विशेष !
कभी कम ना हो सांसों की गिनतियाँ कभी कम ना हो जीवन के दिन कम, कभी कम ना हो महकती सी ये हंसी कभी कम... Read more