May 15, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

अपना परिवार ●

काम आते सब एक दूजे के, भरा पूरा हो जब परिवार,
आओ मिलकर काम करें, हम बदलें अपना व्यवहार।

कद्र करें हम एक दूजे की, बढ़ाएं सबका सम्मान ,
टूटे दिल न कभी किसी का , बदलें अपना सोच विचार।

बदल जायेगा जब सोच हमारा, सुधार जाए यह संसार,
तोड़ सके न कोई हमको , साथ रहे जब घर परिवार।

सोच बदल लें आओ हम सब,जीवन के बस दिन है चार,
नहीं अकेला आगे बढ़ता, सोचें इसको बारम्बार।

कड़ी बढ़ाएं आओ मिलकर, मूल्यों का दे सबको उपहार,
सीखें अपने बच्चे मिलकर , भरा पूरा हो यह संसार।

काम करें कोई ना ऐसा , सोचसमझ कर करें विचार,
बड़े बुजुर्ग हो कोई हमसे, बना रहे आदर सत्कार।

बदल जायेगा जब सोच हमारा, सुधार जाए यह संसार,
तोड़ सके न कोई हमको , साथ रहे जब घर परिवार।

●●●●●●अशोक शर्मा 15.05.2021●●●●●●●●

1 Like · 60 Views
Copy link to share
#25 Trending Author
Ashok Sharma
43 Posts · 2.5k Views
Follow 9 Followers
"सीखाने वाला एक शिक्षक और सीखने वाला एक विद्यार्थी।'' निवास: लाला छपरा, लक्ष्मीगंज, कुशीनगर,U.P. M.A.(Eco),... View full profile
You may also like: