.
Skip to content

अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)

DESH RAJ

DESH RAJ

कविता

January 29, 2017

उपवन में हमने देखा एक अनोखा गुलाब,
उसके रंगों में था, प्रेम – प्यार का शबाब ,
काँटों के मध्य उसमें थी , उमंग बेहिसाब,
सभी को दिया उसने प्यार का बेमिसाल जवाब ,

नादान बार-बार पूछते मुझसे अनोखे गुलाब का नाम ,
गुलाब तले रहकर भी बनते वह बिलकुल अनजान,
ये भी तक न जान पाए “ माँ भारती ” है उसका नाम,
मशाल लेकर करते हैं सिंहनाद “ मेरा भारत महान ”
हमने उसके बच्चों के लिए क्या किया?क्या हमें इसका ज्ञान,
अपने तक ही सीमित रहे तो है “माँ भारती ” का अपमान,

“माँ भारती ” की एक करुण पुकार

“माँ भारती ” की सिसकियों के मध्य एक करुण पुकार ,
“राज” इंसान बनकर दिखा दो तुम ही हो मेरा प्यार दुलार,
तुमसे ही सबकुछ मेरा, अपनी माँ का कर सकते हो उद्धार,
बार-2 क्यों खड़ी करते हो मेरे आँगन में नफ़रत की दीवार ,
टूट चुकी हूँ अब बेटा,तुम ही करा सकते हो मुझे भवसागर पार I

****

देशराज “राज”

Author
DESH RAJ
Recommended Posts
कुछ दोहे (माँ)
प्यार लिखा हर पृष्ठ पर ,माँ वो खुली किताब माँ के आँचल की महक, जैसे खिला गुलाब माँ तो ममता का कभी ,रखती नहीं हिसाब... Read more
“माँ भारती” के सच्चे सपूत
नफरत की फसल उगाकर बहुत मुस्करा रहे वो, इंसानियत का जनाज़ा निकालकर मुस्करा रहे वो I इन्सान-इन्सान को बाँट कर क्या मिल जायेगा तुमको ?... Read more
यूँ ही राधा-कृष्ण का नाम नहीं होता, ....
गुलाब मुहब्बत का पैगाम नहीं होता, चाँद चांदनी का प्यार सरे आम नहीं होता, प्यार होता है मन की निर्मल भावनाओं से, वर्ना यूँ ही... Read more
*गुलाब *.......सुर्ख लाल कली मैं गुलाब की।
**गुलाब** --------- सुर्ख लाल कली मैं गुलाब की। खिली बाग में,नहीं कोई ख्वाब की। आशिक की खुशी में बसती हूँ , बाँटते प्यार मुझसे बेहिसाब... Read more