"अनमोल संस्कार" 100 शब्दों की कहानी

“थैक्यूमां” ज़िंदगी के हर सुख-दुख के पलों में तेरी ही दी हुई सीख व संस्कार को सार्थक रूप देते हुए ही जीवन में आगे बढ़ रही हूं । मुझे आज भी वो दिन याद है, तू अलमारी में कपड़ों के नीचे नकद राशि बचाती थी मां, अपरिहार्य स्थिति में पापा को वही काम आते । बेटी के जन्म के समय मेरी हिम्मत बनकर तुम ही साथ थी मेरे । तुम्हारे सानिध्य में रहकर ही मैं आत्मनिर्भर बन पाई । मां मेरी लेखनी को तुझसे ही मिला प्रेरणारूपी उपहार, इन्ही अनमोल संस्कारों को बच्चों के जीवन में करना है साकार ।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 2 Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share