.
Skip to content

अनमोल कथन

अरविन्द राजपूत

अरविन्द राजपूत "कल्प"

कविता

September 14, 2017

“समस्या और उसका समाधान हम स्वम् हैं, अपेक्षा निरर्थक है।”
-अरविंद राजपूत “कल्प”

“बदलना प्रकृति का सिद्धांत है, मगर सिद्धांत न बदल पाएं ऐसी हमारी प्रकृति हो।’
– अरविंद राजपूत “कल्प”

Author
अरविन्द राजपूत
अध्यापक B.Sc., M.A. (English), B.Ed. शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय साईंखेड़ा
Recommended Posts
आप ही ने नूर भर दिया
मेरी जिंदगी में आप ही ने नूर भर दिया। ऐसा तराशा मुझको कोहिनूर कर दिया।। तन्हा भटक रहा था तुमने हाथ थामकर। तन्हाइयों को मेरी... Read more
हमारा शरीर भी प्रकृति का मिश्रण है।
हमारा शरीर भी प्रकृति का मिश्रण है। वायु,अग्नि,जल आकाश,मिट्टी का सम्मिश्रण है। खुद से तो प्यार किया है तो अब प्रकृति से भी प्यार करो।... Read more
भारत भूमण्डल के मंगलस्वरूप !
संसार की सार आधार हो, स्थूल, सूक्ष्म पावन विचार हो दिव्य शांति सौम्य विविध प्रकार जिनसे सर्वत्र क्लांत , क्रंदन की प्रतिकार ! करूणावरूणालया कल्याणकारिणी... Read more
प्रकृति
हाइकु प्रकृति सुंदर सृष्टि सींचे इंद्रधनुष खुशी सिंदुरी। फैला गंदगी शोध समीक्षा करें मानव। बुढाये ख्वाब साझा धरा का कोना रोती प्रकृति। ढूंढते बच्चे खुशहाल... Read more