31.5k Members 51.9k Posts

अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम

हम स्वतंत्रता दिवस पर, करते उनको याद|
जो शहीद बन आज भी, करें दिलों पर राज||
करें दिलों पर राज, उने हम फूल चढ़ाते|
इति करके हर वर्ष, जगत् में पुनि खो जाते||
कह “नायक” कविराय,कुपोषित-शोषित-बेदम|
अनपढ़ दिखे समाज,बोलिए क्या स्वतंत्र हम??

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

149 Views
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Pt. Brajesh Kumar Nayak
156 Posts · 40.7k Views
1) प्रकाशित कृतियाँ 1-जागा हिंदुस्तान चाहिए "काव्य संग्रह" 2-क्रौंच सु ऋषि आलोक "खण्ड काव्य"/शोधपरक ग्रंथ...
You may also like: