.
Skip to content

अध्यात्म एक अनुभूति, आयोजन से दूर,

Dr. Mahender Singh

Dr. Mahender Singh

शेर

November 8, 2017

*गुफ्तगू थी तेरे मेरे बीच में,
जमाना समझने लगा !
क्या खाक समझा ?
जो बात थी अन्दर के भावों की,
उन्हें बाहर परखने लगा,
.
ताला बंद ही कब था ?
अनुमान लगा बैठे !

कल्पना नाम रख !
हकीकत में छलांग लगा बैठे !

मालूम ही नहीं,क्या चाहिए ?
मुफ्त में जेल की शलाखों में कैद हो बैठे,

ताले सच में लगे थे,
एक नहीं,
बहुतों से जबरन व्यवहार कर बैठे !

जमाना साथ था,
भेडिये भी शेर की चाम ओढ़ बैठे,

हकीकत सामने आनी ही थी,
बंद पिंजरे थे ही कहाँ ?
जो मुक्त होते !!

संदेश अध्यात्मिक सम्मोहन से बचे,
डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,

Author
Dr. Mahender Singh
(आयुर्वेदाचार्य) शौक कविता, व्यंग्य, शेर, हास्य, आलोचक लेख लिखना,अध्यात्म की ओर !
Recommended Posts
यूँ ना समझें कि वो ही हमको भुला बैठे हैं
यूँ ना समझें कि वो ही हमको भुला बैठे हैं तमाम चराग़-ए-हसरत हम भी बुझा बैठे हैं लब पे आ जाए जो ग़ज़ल बनकर वक़्ते-फुरसत... Read more
*** नादानी में नादानी कर बैठे ***
ग़ज़ल/दिनेश एल० "जैहिंद" नादानी में नादानी कर बैठे | अन्जाने में शैतानी कर बैठे || डूबे हम ऐसे आँखों में उनकी,, मोहब्बत हम तूफानी कर... Read more
मुक्तक
इरादा खुदकुशी का था, इसी से प्यार कर बैठे इरादा कत्ल का भी था, कि हम इकरार कर बैठे इरादा भी था बादल का, मोहब्बत... Read more
क्या हुआ।जो नादानी में हमसे मुँह मोड़ बैठे
बेहयाई की भी न थी ,वो हया सारी छोड़ बैठे बेफ़वाई की भी न थी,वो रिश्ते सारे तोड़ बैठे ********************************* रफ्ता -2 ही समझेंगे वो... Read more