Skip to content

अधूरे ख्वाब

Roli Shukla

Roli Shukla

मुक्तक

December 6, 2017

बहुत तकलीफ देती हैं वो उम्मीदें,
जो कभी पूरी नहीं होती,
किसी के जुनून से हक़ीकत की,
इतनी दूरी नहीं होती।।
हर इक शख्स चिराग की तारीफ
करता रहा उम्र भर,
क्या जलती हुए उस बाती की
कोई मजबूरी नहीं होती।।

Share this:
Author
Roli Shukla
From: Gonda
I am too much passionate n ambitions about my goals
Recommended for you