Skip to content

अधूरे ख्वाब

umesh mehra

umesh mehra

गज़ल/गीतिका

April 8, 2017

कुछ आरज़ू अधूरी है कुछ ख्वाब अभी बाकी है ।
जिंदगी है थोड़ी और काम बहुत बाकी है ।।
हसरतो के सिलसिले रूकते नहीं है उम्र भर ।
ढलकी है दोपहर अब शाम अभी बाकी है ।।
माथे की सिलवटें ये कहतीं हैं रात-दिन।
बिटिया हुई सयानी,बिबाह अभी बाकी है ।।
बेटे ने अब पहनें है,जूते मेरे पाँव के।
परवाज देने को उसके,पंख अभी बाकी है ।।
जिंदगी गुजार दी, किराये के मकानों में ।
ढलती हुई उम्र में खुद की छाँव अभी बाकी है ।।
ठहर जाता ए वक्त कुछ देर के लिए ही सही ।
उलझनें है बहुत ही, मसले तमाम बाकी है ।।
जिंदगी है कि आशिक,थमती कहाँ है एक पल।
घूमें बहुत बजार में,बस कफ़न का सामान अभी बाकी है।।
उमेश मेहरा ‘ आशिक ‘
गाडरवारा
9479611151

Author
umesh mehra
Recommended Posts
इस शहर में क़याम बाकी है
इस शहर में क़याम बाकी है कुछ अधूरा सा काम बाकी है गुफ़्तगू सबसे हो गयी मेरी सिर्फ उनका सलाम बाकी है इक शजर पे... Read more
अभी बाकी है
अभी बाकी है................... हिन्दुस्तां को बुलंदियों पर ले जाना अभी बाकी है मयम्मार का पैगाम कराची पहुचाना अभी बाकी है ************************************** कैसे चैन से सो... Read more
सलाम  आया  है अभी  पैग़ाम बाकी  है
सलाम आया है अभी पैग़ाम बाकी है उठा नहीं अभी तक वो गाम बाक़ी है तबीयत हो कि मौसम बिगड़ ही जाता है इनकी भी... Read more
सफ़र अभी बाकी है,,,,
यूँ ही हाथ थामे चलना हमसफ़र सफ़र अभी बाकी है। रंग तो बहुत देखे हैं जिंदगी के रंग पिया का अभी बाकी है। गुलाब सा... Read more