.
Skip to content

अदा

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

शेर

June 9, 2017

अदा
+++++++++++++++
मुझसे मुहब्बत भी बेपनाह करता है
फिर भी मेरी हर बात पर बिगड़ता है
इसे अदा कहुँ या फितरत जनाब की
जो भी हो दिल ये तो उसी पे मरता है !!
!
!
!
!
—: डी के निवातिया :—

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
अदा
Neelam Sharma गीत Jun 10, 2017
आज का हासिल- अदा कहां से शुरू करूं कान्हा और कहां खत्म कान्हा। तेरी हर एक अदा है दिलकश ज़माने से जुदा जुदा। जिस अदा... Read more
* मर्द *
Neelam Ji कविता Jun 16, 2017
मर्द कभी नारी को बेइज्जत नहीं करते । अपनी माँ की कोख को शर्मसार नहीं करते ।। मर्द होने का दावा तो बहुत से लोग... Read more
तुझे कुछ इस तरह सजाएंगे
तुझे कुछ इस तरह सजाएंगे चाँद नहीं अपनी कायनात बनाएंगे तोड़ना-टूटना, ये दिल की अदा है तुझे हम अपनी रूह मे समाएंगे
मुक्तक
मेरी कोशिश तुमको पाने की है! अपने करीब तुमको लाने की है! कबतक सह पाऊँगा बेताबी को? तेरी हर अदा तो सताने की है! मुक्तककार-... Read more