23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

अदायें

शुभ प्रभात शुभोदयम
*****************************************
अदाओं के तेरे जलवे भी
कुछ हैं कम नहीं नकहत
हैं नफरत गर जो हमसे तो
बगावत की बू आने दे
*******************************
बगावत भी अजब क्या हैं
मोहब्बत में तेरा नकहत
हमें अश्के समन्दर में
स्वयं को तू सजाने दे
******************************
सजाने दे न मातम के
मोहब्बत में कफन को तू
मेरे हमदर्द हैं जो भी
उन्हें आंसू बहाने दे
******************************
नहीं रुसवाइयां भी
बेवजह होती कभी हैं यूं
मेरे मौत पर भी शिवम्
उन्हें खुशियाँ मानाने दे !!!
*******************************
शिवानन्द चौबे (कुमार शिवम् )

1 Like · 4 Views
shivanand.chaubey
shivanand.chaubey
12 Posts · 67 Views
You may also like: