.
Skip to content

अतीत हूँ मैं

purushottam sinha

purushottam sinha

कविता

July 21, 2017

अतीत हूँ मैं बस इक तेरा, हूँ कोई वर्तमान नहीं…
तुमको याद रहूँ भी तो मैं कैसे,
मेरी चाहत का तुझको, है कोई गुमान नहीं,
झकझोरेंगी मेरी बातें तुम्हें कैसे,
बातें ही थी वो, आकर्षण का कोई सामान नहीं।

मेरी आँखों के मोती बन-बनकर टूटे हैं सभी,
सच कहता हूँ उन सपनों में था मुझको विश्वास कभी,
सजल नयन हुए थे तेरे, देखकर पागलपन मेरा,
अब हँसता हूँ मैं यह कहकर “लो टूट चुका बन्धन मेरा!”
अतीत के वो क्षण, अब मुझको हैं याद नहीं।

क्या जानो तुम कि एक विवशता से है प्रेरित…
जीवन सबका, जीवन मेरा और तेरा !
पर यह विवशता कब तक रौंदेगी जीवन को भी,
हो जाएंगे आँखों से ओझल जीवन के ये पृष्ठ सभी,
नव-यौवन की ये हलचल, हो जाएंगी खाक यहीं।

अपनाने में तुमको मैंने अपनेपन की परवाह न की,
पर क्रंदन सुनकर भी मेरी, तूने इक आह न की,
आह मेरे अब उभरे हैं बनकर गीत,
पर दुनिया मेरे गीतों में अपनापन पाए भी तो क्या?
बोल मेरे उन गीतों के, रह जाने हैं बस यहीं।

अतीत हूँ मैं बस इक तेरा, हूँ कोई वर्तमान नहीं…..

Author
purushottam sinha
A Banker, A Poet... I love poems...
Recommended Posts
मैं हिंदी हूँ
मैं हिंदी हूँ ✍✍✍✍ मैं हिन्दी हूँ ,मैं हिन्दी हूँ भारत माँ के माथे की बिन्दी हूँ हिन्दी मेरी सखि सखा प्रियतम है मेरी चिर... Read more
समझता हूँ
तेरे लव से निकलती हर जुबां को में समझता हूँ तेरे खामोस होने की वजह भी में समझता हूँ क्यों यारा तुम नहीं समझी मेरे... Read more
दर्द अपने मैं काग़ज़ पर उतार देता हूँ
सिलसिला दर्द का थम गया होता, तू अगर मेरा ही बन गया होता, मुश्किलें मुझको तब तोड़तीं कैसे, सामने उनके तो मैं तन गया होता!... Read more
हिंदुस्तान की बिटिया मैं.......... तेरी दीवानी हूँ |गीत| “मनोज कुमार”
हिंदुस्तान की बिटिया मैं हिन्दी बोली जानी हूँ मेरी भारत धरती माँ मैं तेरी दीवानी हूँ हिंदुस्तान की बिटिया मैं...................................... तेरी दीवानी हूँ नैनों में... Read more