.
Skip to content

अजनवी बॉस

सोबन सिंह रावत

सोबन सिंह रावत

लघु कथा

October 3, 2017

कुछ दिन पहले की बात है । मेरे एक परिचित मेरे बॉस बनकर आये। शायद मुझसे अधिक खुशी किसी और हुई हो। मैं अपने सहकर्मियों के साथ उनके स्वागत एवम ट्रांसफर हुए बॉस की विदाई पार्टी के लिए जा रहा था।अचानक बॉस मेरे एक सहकर्मी की कार में नजर आये,मैंने अति उत्साह में सहकर्मी को फोन किया उन्होंने भी कार रोक कर मुझे अपनी कार में बिठाया। मैंने बॉस को सलाम ठोका, बॉस ने हल्का सा सिर हिलाया और मेरी तरफ ऐसे मुंह फेर के बैठे जैसे मैं उनकी अति उपेक्षित वस्तु में शुमार हूँ,जो जबरन उनके गले पड़ गई हो।अगले स्टेशन पर ड्राईवर सरकारी गाड़ी लेकर खड़ा था। गाड़ी देखते ही बॉस कार से उतरे और दनदनाते हुए अपनी गाड़ी में ऐसे बैठे मानो किसी मुसीबत से पिंड छूट गया हो।।
मैं भौंचक्का सोच रहा था,शायद बॉस बनने के बाद चिर परिचित व्यक्ति भी अजनवी बन जाता है। अजनवी और केवल अजनबी,अजनवी बॉस ।।

Author
सोबन सिंह रावत
जन्म स्थान-ग्राम पोस्ट खवाड़ा बासर टिहरी गढ़वाल उत्तराखंड ।ग्राम पंचायत अधिकारी(पंचायत सचिव ) के पद पर कार्यरत जौनपुर टिहरी गढ़वाल उत्तराखंड।। जन्म तिथि एक नवम्बर उन्नीस सौ त्रेसठ।
Recommended Posts
लेख :-- मेरे कम्पनी की बस !!
लेख :-- मेरे कम्पनी की बस !! रचनाकार :-- अनुज तिवारी "इन्दवार" दोस्तो आज की इस व्यस्ततम जीवन शैली में "परेशानी और तनाव " इंसान... Read more
मेरे श्याम
मुझे साथ अपने ले चल, मेरे श्याम.... साँवरे..... रहता है तू जहाँ पर मेरे श्याम..... साँवरे..... वो डारियाँ कदंब की, तेरा साथ मेरे होना; मेरे... Read more
ग़ज़ल
सुहानी शाम का मंज़र मगर तुम नहीं आये मेरा साया था हमसफ़र मगर तुम नहीं आये कहीं गा रहा था कोई नग़मे जुदाई के दिल... Read more
ग़ज़ल (मेरे मालिक मेरे मौला )
ग़ज़ल (मेरे मालिक मेरे मौला ) मेरे मालिक मेरे मौला ये क्या दुनिया बनाई है किसी के पास खाने को मगर बह खा नहीं पाये... Read more