अजनबी

अजनबी के साथ सफर में
हम सफर बनना कितना अच्छा लगता है
उस वक्त नहीं होती
कहीं उम्र
नहीं होता
कोई बन्धन
होता है तो बस
साथ चलते रहने का मन…

देखते रहने का
कहीं दूर
ऊँची पहाड़ियों को
देखते रहने का
उन पर से गिरते झरनों को
दूर बहती नदी को
या……
दूर-दूर तक
फैली रेत
उस पर चलते रहना
नंगें पैर…

चलने को
यूं ही मचल जाता है मन
फिर कहीं होती है झिझक
ये जो अजनबी है
सोचता क्या होगा….?
चाहे वो भी हो
मेरी तरह मस्ती में डूबा
उन ख्वाबों में
जिनको ये जागती आँखें देखती हैं……

सुनील पुष्करणा

1 Like · 22 Views
suneelpushkarna@gmail.com समस्त रचना स्वलिखित
You may also like: