.
Skip to content

अच्छी करनी

पं.संजीव शुक्ल

पं.संजीव शुक्ल

कुण्डलिया

August 7, 2017

करनी अच्छी कीजिये राखिये सबका मान,
अपने तो अपने रहे दूजा दे सम्मान,
दूजा दे सम्मान स्वर्ग में लगेगी सीढी
अपने इन करमन से तरेगी कईएक पीढी।
कहे “सचिन” कविराय सभीको यही है भरनी
जिसकी जैसे होगी इस जगत में करनी।।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
9560335952
7/8/2017

Author
पं.संजीव शुक्ल
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
भक्ति भावना
भक्ति भावना... ....................... मन तूं इतना सा एहसास रहने दे, भक्त हूँ जगतजननी का आभास रहने दे मैं मैं हूँ, तु तूं है ब्यर्थ है... Read more
मुझे जहरीली हरगिज़ बोलियाँ अच्छी नहीं लगतीं
ग़ज़ल ******* 1- हँसी होठों को दे अब सिसकियाँ अच्छी नहीं लगतीं जरा शीरी ज़बां कर तल्ख़ियाँ अच्छी नहीं लगतीं 2- जला दें उन घरों... Read more
बुरे वक्त में पास
कौन करेगा आपकी,......बातों पर विश्वास! अगर जगाकर तोडदी, सहज किसी की आस! कथनी करनी एक हो, तभी मिले सम्मान, वरन रहेगा कौन फिर, बुरे वक्त... Read more
धर्म के रखवालों से करनी एक गुजारिश है ।
धर्म के रखवालों से करनी एक गुजारिश है । सभी धर्मों का करें वो आदर , करनी यही सिफारिश है । भगवन होते हैं एक... Read more