अच्छा होगा ...!!

वक़्त रहते ही तेरे पास आ जाऊ तो अच्छा होगा ..
सूरज ढलने से पहले घर आ जाऊ तो अच्छा होगा ।
इश्क़ में मुझे कोई और जलाये,
उससे पहले ही मर जाऊ तो अच्छा होगा ।
बचपन की गलतियां मुझे याद है अभी भी ,
मैं फिर से बच्चा हो जाऊ तो अच्छा होगा ।
तुम तो मेरे दिल में रहती हो ना
मेरे पास वापस आ जाओ तो अच्छा होगा ।
चाँद , तारे सब उदास है लेकिन ,
फिर एक दीदार कर दो तो अच्छा होगा ।

:-हसीब अनवर

Like 2 Comment 0
Views 64

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing