लघु कथा · Reading time: 2 minutes

अच्छा या बुरा

(बाल मन पर आधारित एक लघुकथा)
शीर्षक – अच्छा या बुरा
==================
देश में फैल रही महामारी के कारण हुए लॉकडाउन में सभी स्कूल, कॉलेज ऑफिस आदि बंद हो चुके थे l सभी लोग अपने अपने घरों में परिवार के साथ समय व्यतीत कर रहे थे l मिस्टर माथुर भी अपने परिवार के साथ लॉन में बैठे पकोड़े और चाय की चुस्कियों का आनंद ले रहे थे l पूरा परिवार कई वर्षो के बाद एक साथ चाय की चुस्कियां ले रहा था l सभी बहुत खुश नजर आ रहे थे l तभी अचानक तन्वी ने मिस्टर माथुर से एक प्रश्न किया – “पापा, ये कोरोना वायरस अच्छा है या बुरा l”
एकाएक सभी एक दूसरे का मुँह ताकने लगे तो मिस्टर माथुर ने कहा – ” बेटा पूरा देश इस संकट से जूझ रहा हैl सारे कारोवार ठप्प पड़े हैं l बहुत से लोगों की जॉब भी हाथ से निकल गई, जाहिर सी बात है यह बहुत बुरा है l”
– “लेकिन पापा, मेरे लिये तो ये अच्छा ही है l”
– ” वो कैसे मेरी गुड़िया” मिस्टर माथुर ने तन्वी को पास में बिठाते हुए कहा l
– ” पापा, मै और भैया आपसे और मम्मा से बहुत सारी बातें करना चाहते थे l आपके साथ खेलना चाहते थे l आपके साथ पिकनिक जाना चाहते थे l लेकिन जब तक आप और मम्मा ऑफिस से आते, तब तक मै सो चुकी होती l सुबह मेरे स्कूल जाने की जल्दी और आप दोनो को ऑफिस की जल्दी l किसी के पास टाइम नहीं होता हमारे लिये l दादी अम्मा भी जब बीमार होती तब भी आप लोग उन्हें अकेला छोड़ के चले जाते ”
” लेकिन बेटा तुम तो जानती हो इतना बड़ा कारोबार समय ही कहाँ मिलता हैl अगर तुम्हारी मम्मा साथ न देती तो कारोबार कब का ठप्प हो गया होता और वैसे भी हमने किसी चीज की कमी होने दी कभी l” – मिस्टर माथुर ने तन्वी की बात को बीच में ही काट कर कहा l

” लेकिन पापा मुझे ये सब नही चाहिए था l आपके साथ बैठना, बात करना, खेलना पिकनिक करना, और पेरेंट्स मीटिंग हर जगह आप लोगों को खोजती रही हूँ और हर जगह अकेला ही पाया खुद कोl” – तन्वी ने बात पूरी की l
-” आई एम सॉरी बेटा”
-” सॉरी नही पापा, अब मै इन इक्कीस दिनों में आपके साथ रह सकती हूँ, जी भर के बाते कर सकती हूँ, खेल सकती हूँ l थैंक्यू कोरोना मुझे मेरा परिवार देने के लिएl सच में पापा अब ये मकान भी घर लगने लगा हैl” – कहते हुए तन्वी अपने पापा के गले से लग गई l और पूरे परिवार के साथ तन्वी की नम आँखों से अश्रु धारा बह निकली l

राघव दुवे ‘रघु’
इटावा
8439401034

1 Comment · 53 Views
Like
Author
78 Posts · 5.2k Views
मैं राघव दुबे 'रघु' इटावा (उ०प्र०) का निवासी हूं।लगभग बारह बरसों से निरंतर साहित्य साधना में लगा हुआ हूँ ।कविता ,गीत ,मुक्तक ,शेर शायरी लिखना मेरे लिए किसी आराधना से…
You may also like:
Loading...