गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

*अच्छा नहीं लगता*

नज़ारा लाख दिलकश हो मगर अच्छा नहीँ लगता!
रखे जो दूर छाया को शज़र अच्छा नहीँ लगता!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
खुशी सारे ज़माने की भले मौजूद हो लेकिन!
भरा ग़म है अगर दिल में बशर अच्छा नहीँ लगता!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
रहे अभिमान में अकड़ा हमेशा जो ज़माने में!
सिवा अपने कोई भी नामवर अच्छा नहीँ लगता!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
सियासत के दरिंदो की यही पहचान है होती!
बिना वोटों के कोई भी नगर अच्छा नहीं लगता!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
सदा आसान हों राहें नहीँ मुमकिन यहाँ हरगिज़!
गिले हों ज़िन्दगानी से सफर अच्छा नहीँ लगता!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
ज़माने को अगर देखो मुसाफ़िर की नज़र से तुम!
इरादों के बिना जीवन समर अच्छा नहीं लगता!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
(9034376051)

48 Views
Like
You may also like:
Loading...