अग्नि फेरा

🌋

वैदिक मंत्रोच्चारण के संग
है साक्षी यह अग्नि पावन
पाणिग्रहण कर अग्नि फेरे
दो प्राण और एक हो जीवन।

सप्त पदी अग्नि के चहुंओर
बंधे गये दो तन-मन इक डोर
सप्त वचन सातों जन्मों तक
जोड़ें प्यार न कोई ओर छोर

अग्नि फेरे बांधे अटूट बंधन
विश्वास करे इसमें जन-जन।
अग्नि ऊष्मा जगाए अगन
नव युगल रहे प्रणय मगन ।

सुदृढ़ साक्ष्य यह अग्नि पुनीत
प्रगाढ़ बन्धन मन के मीत
हृदय एक दो तन आकृति।
जिसे पावन माने संस्कृति।

रंजना माथुर
अजमेर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना

54 Views
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से...
You may also like: