Nov 22, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

*@अगर तू समझ जाये@*

*@अगर तू समझ जाये@*

मेरा सफर ये सुहाना बन जाये,,
अगर तू मेरे संग संग चल जाये,,

हर पल तेरे ही खयालो में गुम रहूँ,,
अगर तू मेरा हमसफ़र बन जाये,,

रब से दुआ करू तो तुझे ही मांगू,,
अगर तू मेरी ख्वाइश बन जाये,,

तेरा हर गीत दिल मे उतारू मै,,
अगर तू मेरा संगीत बन जाये,,

मैं सारी रैना इन्तजार में गुजारु दू,
अगर तू मेरे दिल का शुकुन बन जाये,,

तेरे ही ख्वाब पलको पर सजाऊँ,,
अगर तू मेरी हर सोच बन जाये,,

हर मंजिल हर राह आसां होगी,,
अगर तू मेरा हमसफ़र हो जाये,,

चेहरे से गम की घटा हटती है,,
अगर मेरे मुस्कुराने की वजह बन जाये,,

दिलेबाग में खुशबू बिखरती रहे,,
अगर तू मेरा लाल गुलाब बन जाये,,

मेरा हर शब्द तुझ पर असर करेगा,,
अगर कमी निकलना तू कम कर जाये,,

सोनु ऐसे ही कविता रचती ही जाये,,
अगर तू मुझे हर बात सलीके समझाये,,
*■सोनु जैन मन्दसौर■*

170 Views
Copy link to share
Sonu Jain
Sonu Jain
290 Posts · 17.1k Views
Follow 3 Followers
Govt, mp में सहायक अध्यापिका के पद पर है,, कविता,लेखन,पाठ, और रचनात्मक कार्यो में रुचि,,,... View full profile
You may also like: