Skip to content

अगरचे मैला साधू संत का किरदार हो जाये—- गज़ल

निर्मला कपिला

निर्मला कपिला

गज़ल/गीतिका

August 30, 2016

अगरचे मैला साधू संत का किरदार हो जाये
तो मजहब धर्म सब उसके लिये व्यापार हो जाए

लडाई हक की जो लडता रहा ताउम्र दुनिया मे
वो आने वाली नस्लों के लिये अन्वार हो जाये

रहो न बेखबर इन शहद सी गुफ्तार वालों से—
जुबाने ए शीर भी मुमकिन है कि तलवार हो जाये

न जाएगा कभी कूए मलामत जहन लोगों का
सिहाकारी का गर्चे रास्ता हमवार हो जाये—-

मजाल इतनी है दुश्मन की चला जाये वो करके वार
ये मुमकिन है तभी जब राजदां गद्दार हो जाये

अनाथों और’गरीबों की ‌मदद कर क्या‌ पता‌ निर्मल
शजर ये नेकिओं का हश्र मे फलदार हो जाये

Share this:
Author
निर्मला कपिला
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण... Read more
Recommended for you