.
Skip to content

अक्स

Neelam Sharma

Neelam Sharma

गीत

June 7, 2017

परछाई…..।
स्नेहिल हो सजल नयनों से है कोटि-कोटि आभार व्यक्त।
संग मेरे रहती ये सदा अदृश्य होकर,हर पल और हर वक्त।
साथ नहीं देता जीवन में हर पल कोई भी शख्स
रहता साथ जो बिना जताए,एकमात्र अपना अक्स

हूं हृदय से आभारी मैं उसकी
वो साथ मेरे चहूं ओर है।
वही करती होंसला अफजाई
हां, मेरी पुरजोर है।
छाया अक्स प्रतिबिंब बन चलती
वह मेरी परछाई।
अटूट विश्वास बंधन लगाव की
इसने वर्षा बरसाई।

रहती सदा साथ मेरे कभी
अहसान भी जतलाती नहीं।
निर्मल अमल सुधा सी है यह
इसे चाहिए कोई ख्याति नहीं।

प्रकाश तज चुना तम इसने
मेरे ख्यालों को बुना है इसने।
मेरे हर्ष में संग उल्लास मनाया
मेरे दुखों में किया संग विलाप इसने।

जीवन की हर उथल-पुथल को
यह साथ मेरे है मथ रही।
नहीं मुमकिन शब्दों में कहना
है वेदना इसने अकथ सही।
है हर परिस्थिति में साथ दिया
है हर विपदा साथ उठाई।
नहीं रहता कोई साथ नीलम
साथ रहती बस परछाई।

नीलम शर्मा

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
गज़ल (मेरे हमसफ़र )
गज़ल (मेरे हमसफ़र ) मेरे हमनसी मेरे हमसफ़र ,तुझे खोजती है मेरी नजर तुम्हें हो ख़बर की न हो ख़बर ,मुझे सिर्फ तेरी तलाश है... Read more
परछाई
परछाईं ******* परछाई बन मेरे हमसफर संग साथ ही में रहा करो। कभी जो भटकूँ राह कही मुझे राह पे तुम किया करो। परछाई बन... Read more
मेरी दुनिया तेरी यादों के साये में रहती है
मेरी दुनिया तेरी यादों के साये में रहती है कभी हँसती है मुझ पर ये कभी मुझमें ही रोती है सुबह से शाम तक साथी... Read more
चाँद मेरा
चाँद जो हर पल दिल मेरे उगता है सबसे प्यारा मुझको है तम से घिरे दिल में जो मायूसी है जगमगाहट फैलाकर हर रोज सदाबहार... Read more