.
Skip to content

अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,

kapil Jain

kapil Jain

गज़ल/गीतिका

November 5, 2016

अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।
अनसुने हो गए जब दिल-ए-अरमान सभी,
खामोशियाँ उतार देते हैं कागजो पर,
अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।

जागती आँखों से जिन्हें देखने की भूल की,
अधूरे वो ख्वाब,उतार देते हैं कागजों पर।
सोचा था की,मिलेंगे तब केह देंगे,
वो हर बात,उतार देते हैं कागजों पर।
अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।

धुँधली हो गई मगर है जिन्दा ज़ेहन में ,
वो तेरी यादें,उतार देते हैं कागजो पर।
अकेले बैठतें हैं अब,जब भी कभी,
कुछ गजलें उतार देते हैं कागजों पर।
कुछ नज़्मे उतार देते हैं कागजों पर।

कपिल जैन

Author
kapil Jain
नाम:कपिल जैन -भोपाल मध्य प्रदेश जन्म : 2 मई 1989 शिक्षा: B.B.A E-mail:-kapil46220@gmail.com
Recommended Posts
भरोसा
भरोसा तोड़ने वाले ------------ भरोसा तोड़ देते हैं अगर अवसर मिले तो दिल का शीशा तोड़ देते हैं बड़े लोभी हैं ये कपटी --कभी विश्वास... Read more
उनका शाही अंदाज
कब तक रहते हैं वो हमसे नाराज देखना है, मेरे बिना बेहतर होता जीवन उनका ये विश्वास देखना है, कई बार कहते हैं वो हमारी... Read more
मुहब्बत की निशानी
वो पतझड़ में भी अक्सर ऋतु सुहानी भेज देते हैं .......कभी फिर याद में बीती कहानी भेज देते हैं ....मुझे जो भूल बैठे हैं न... Read more
जो हो रहा है होने दो
मुझे जिंदगी से शिकवा नहीं, जो हो रहा है वो होने दो, हम शायद किसी काबिल नहीं, जो खो गया वो खोने दो। आखिर खिजाएँ... Read more