23.7k Members 49.8k Posts

*** अंधेरे बहुत है ***

अंधेरे बहुत है तन्हाइयों के

कह दो तो हम शमां लेके आये

कहकर तो देखो शमां दिल की जलाये

जगा देंगे हम तो अरमां दिल में सोये

जली जो ये शमां मिटाने अंधेरा

कहीं खुद ही ना बुझ जाये

तुम ना रूठो तुम ना रोना

यदि फ़ख्र है मेरी वफ़ा पे

प्यासा है दरिया ये हमने है जाना

खुद डूबने की ख़ातिर बेताब दिल है

मय क्या पिलाये मदहोश हो तुम

आँखों में है आबाद मयखाना तेरे

कहते हो अनजान जहां से तुम हो

ये कैसे यूं ही अब हम मान जायें

अंधेरे बहुत है तन्हाइयों के

कह दो तो हम शमां लेके आये

कहते हो उड़ाने पतंग प्यार की तुम

कभी सोचा है पतंग कट ना जाये

मिलेंगे तो सब समझा देंगे तुमको ।।

?मधुप बैरागी

Like 1 Comment 0
Views 20

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
भूरचन्द जयपाल
भूरचन्द जयपाल
मुक्ता प्रसाद नगर , बीकानेर ( राजस्थान )
555 Posts · 20.6k Views
मैं भूरचन्द जयपाल 13.7.2017 स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर...