मुक्तक · Reading time: 1 minute

अंदाजे इश्क़

बेफ़वाई की भी न थी वो शर्म सारी छोड़ बैठे
कस्मे तोड़ी भी न थी ,वो हदें सारी तोड़ बेठे
*********************************
रफ्ता-2 ही समझेंगे वो हमारा अंदाजे इश्क़
क्या हुआ जो नादानी में हमसे मुँह मोड़ बेठे
**********************************
कपिल कुमार
26/07/2016

24 Views
Like
154 Posts · 6.1k Views
You may also like:
Loading...