अंदाज़ - ऐ - मुहोबत

शिकायत भी करें और इल्जाम भी लगाए क्या-क्या,

कोई पूछे उनसे उनका यह अंदाज़ ऐ मुहोबत है क्या ।

कुछ कहें उनसे तो मुश्किल, न कहें तो मुश्किल हाय!

कशमकश में रहे नन्हा सा, दिल यह इंसाफ है क्या?

न इकरार करते हैं न इंकार ही करते हैं, ऐसे है वो ,

जानेमन ,जाने जां कहे उन्हें या फिर बेवफा कहें क्या?

अभी हैं आपकी जिंदगी में, कल हो न हो मालूम नहीं,

कद्र कर लो अभी वरना रुसवा हो तो करोगे क्या ?

न पुकारो बहारों को तो वह भी लौट जाया करती है,

इशारा हमारा समझ लो, इससे ज्यादा हम कहें क्या?

फिर न करना कोई गिला और न कोई शिकवा ‘अनु’ से,

ओढ़ लिया जब कफन, फिर कुछ गुंजाइश बचती है क्या?

1 Like · 2 Comments · 38 Views
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा...
You may also like: