Nov 3, 2018 · गीत
Reading time: 1 minute

“अंतस की आवाज”

वक्त बे वक्त तुम याद आओ नहीं ,
मन के अंतस को यूं तुम सताओ नहीं ।
कर दिया जब समर्पण मेरे मौन ने ,
बुझ गई जो समा फिर जलाओ नहीं ।।

वक्त बे वक्त तुम…………………

हर कदम तेरे आने की आहट मिले ,
मन के अंतस में ऐसी सजावट मिले ।
टूटकर भी हृदय चन्द टुकड़े बना ,
फिर भी टुकड़ों में तेरी ही सूरत दिखे ।।

मन व्यथित हो गया तन शिथिल हो गया ,
वक्त की धार में सब समय घुल गया ।
मन की वीणा मेरी शब्द से गिर गई ,
स्वप्न जीवन की वो प्यास भी बुझ गई ।।

दूर होकर भी तुम पास आओ नहीं ,
वक्त बे वक्त तुम याद आओ नहीं,
मेरे अंतस को तुम यूं सताओ नहीं ,
वक्त बे वक्त……………………….।।

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

110 Views
Copy link to share
अमित मिश्र
30 Posts · 13.5k Views
Follow 9 Followers
अमित मिश्र शिक्षा - एम ए हिंदी, बी एड , यू जी सी नेट पता-... View full profile
You may also like: