.
Skip to content

अंजामे मुहब्बत

Pritam Rathaur

Pritam Rathaur

गज़ल/गीतिका

April 20, 2017

मिलता है है मुफ़लिसी में सहारा कभी-कभी
किस्मत का है चमकता सितारा कभी-कभी

जिसने किया है इश्क तो दुनिया में आजकल
फिरता है मारा – मारा बेचारा कभी-कभी

उसका सफीना डूबता घिर के तुफानो में
छूटा है पास आकर किनारा कभी-कभी

Author
Pritam Rathaur
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल : दिल में आता कभी-कभी
दिल में आता कभी-कभी जग न भाता कभी-कभी । दिल में आता कभी-कभी ।। देख छल-कपट बे-शर्मी,, मन तो रोता कभी-कभी ।। आकर फँसा जहाँ--तहाँ,,... Read more
ज़िन्दगी कभी-कभी अजनबी सी लगती है...
अपनी होकर भी, ना जाने क्यूँ.... किसी और की लगती है.... ये ज़िन्दगी कभी कभी…. हाँ.....कभी-कभी अजनबी सी लगती है..... धड़कता तो है दिल अपने... Read more
कभी-कभी
कभी-कभी ढोना पड़ती है पृथ्वी अपने ही कंधों पर । अपने लिए नहीं, समाज की रक्षा के लिए । कभी-कभी बाँधना पड़ता है आकाश को... Read more
कभी जागीर लगती है................ “मनोज कुमार”
कभी शोला, कभी शबनम, कभी तू आग लगती है कभी जन्नत, परी कोई, कभी आफ़ताब लगती है कभी मेरी है तू लैला, कभी तू हीर... Read more