.
Skip to content

अंग दान

Beena Lalas

Beena Lalas

कविता

June 2, 2016

सुन ऐ मेरे अभिन्न अंग,लिया था जन्म मेंने तुमको भी साथ लेकर संग ,
सुन ऐ मेरे अभिन अंग,किया था पोषित तुमको भी माँ ने
किया था पल्लवित तुमको भी पिता ने,एक दूजे के संग संग,सुन ऐ मेरे अभिन अंग
दी थी माँ ने अमूल्य शिक्षा,देखा मुझ में अपना प्रतिरूप
करवाया था पाठ याद एकलव्य का,समर्पण व त्याग के महत्व का
किया समर्पित अभिन अंग गुरु दक्षिणा में
किंचित भी ना घबराया ना सकुचाया था,
कितना भाग्यशाली था वो अंग रख दिया उसे चरण पादुका संग ।।
सुन ऐ मेरे अभिन अंग ,तू भी रह मेरे पिया के संग
अब तक थी में उनकी जीवन साथी
तेरे कारण बन पाई में उनके नव जीवन की में नव दात्री
पिया ने जीती जंग जीवन की
पिया ने जीती जंग जीवन की
रक्षा की तुमने मेरे सतीत्व की
रक्षा की तुमने मेरे सतीत्व की
सुन ऐ मेरे अभिन अंग (kidine )…सुन ऐ मेरे अभिन अंग

सारांश…एक पत्नी अपने पति को अंग दान(kidney)करके स्वयम को कितना भाग्यशाली समझती हे…इस विषय पर मेंने ये कविता लिखी हॆ ये विश्व की पहली कविता हॆ जो गुर्दे पर लिखी गई हे ॥

Author
Beena Lalas
पति का नाम --खेम सिंह लालस शिक्षा --हिंदी स्नातकोत्तर MA भूतपूर्व आल इंडिया रेडियो एडवाइजर कमेटी मेंबर ईवेंट मेनेजर कविताये और हास्य व्यंग्य लिखती हूँ
Recommended Posts
मशहूर हूँ
सुन के जग बालो की ,ये बातें सदा , सोचने के लिए अब में मजबूर हूँ। जिनते नजदीक आने की कोशिश कर, खुद को पता... Read more
कविता
ila singh कविता May 14, 2017
माँ, तुमको मुक्त कर लूँ ********************** सूखे पत्ते -सी झर रही हो पल-पल बदल रही हो वक्त की बंद मुट्ठी से रेत-सी फिसल रही हो... Read more
बिछणा हुआ प्यार
चाँन्द मिले सितारे मिले,सबको माँ बाप का प्यार मिले। ऐ मेरे खुदा तू ऐसी दुनियाँ बनादे,जो अपने माँ बाप से दूर है,उनको अपनी कमियों का... Read more
माँ ......
माँ... माँ जीवन का आगाज़ है, माँ एक जीने का अंदाज़ है| माँ... माँ अपनेपन की आवाज़ है, माँ आनंद की आभास है| माँ... माँ... Read more