.
Skip to content

अंग्रेजी में फूल

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

February 21, 2017

जिनको चुभते थे कभी, हम भी बनकर शूल !
वही दे रहे आजकल, हमको प्रतिदिन फूल !!

उनको कहना ठीक है, ..अंग्रेजी में फूल !
मसलें जो कलियाँ अगर, मेटें फूल समूल !!

मंदिर सी खुश्बू मिले,मृदल गंध की टेर!
जब बासन्ती धूप मे, खिलता फूल कनेर!!
रमेश शर्मा.

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
रिश्तों का फूल
रिश्तों का फूल मन में थी मिलने की इच्छा... तभी तो गणपति ने हमको मिलाया है... किसी से नहीं किया, सलाह मशवरा... फिर भी हमने... Read more
मुक्तक
बिन हवा के खूशबू कभी बिखरती नही नही खिले फूल तो बगिया सवंरती नहीं राहों मे बिछे फूल हीं फूल नहीं काटें भी हैं बिन... Read more
जब तलक ज़िंदगी है फूल की महकता है
suresh sangwan शेर Dec 14, 2016
जब तलक ज़िंदगी है फूल की महकता है जलता जितना है सोना आग में संवरता है --सुरेश सांगवान 'सरू'
कहा फूल ने .........
कहा फूल ने ......... * पूछा फूल से,बिखरने के लिए खिलती क्यों है ? तोड़ लेता माली , तुझे फिर तू हँसती क्यों है ?... Read more