Jun 10, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

अंको संग कविता

100 में 99 बे बेईमान
फिर भी मेरा देश महान ।

अपने मुल्क़ मे ही छिपे है, लाखो शैतान
जो ले लेते है, अपनो की ही जान ।

1 नेक अकेला 1 ध्रुव तारा है
निज स्वार्थ वाले हर सदकर्म से 9-2 -11 है।

भलाई की बात करना हुआ 1 बिता जमाना है
भ्रस्ट लोगो की तरक्की दिन 2गुना और रात 4गुणा है।

नेताओ की बाते जैसे 3-13 है
छल कपट यहाँ 10 सो दिशाओ मे फैला है।

खबरे आज 19-20 है
जिसे देखो उसे खिश है।

4 अक्षर जो पढ़ा वो बना अब बड़ा ज्ञानी है
17-18 साल में ही चढ़ जाने लगी जवानी है।

36 के 36 गुण मिला दे वो पंडित की विधवानि है
4 गवाहो के बीच शादी करा दे वो सरकार की मेहरबानी है।

हर प्यार का प्यार 14 वी का चांद है
जिसके पूरे हो जाय उसके तो 4 चांद है।

किसी का किसी से बड़ा 60 गाठ है
तो किसी का किसी से 3-6 का हालात है।

विक्रम कुमार सोनी

3 Likes · 1 Comment · 28 Views
Copy link to share
Vikram Soni
12 Posts · 1k Views
Follow 12 Followers
Diploma in financial Management with M.Com Working in Social welfare department govt. Of Bihar View full profile
You may also like: