.
Skip to content

अँधेरा ही पायेगा

Surya Karan

Surya Karan

गज़ल/गीतिका

July 12, 2017

अमरनाथ यात्रा पर 10-7-2017 को हुवे आतंकी हमले पर जेहादियों को झकझोंरने वाली रचना ।
*********************************

अपने कर्मों से मुँह ना फेर पायेगा
ख़ुदा गवाह है, जहन्नुम में जायेगा

आज बुलंदियों पर है हौसले तेरे
फिक्र कर गर्दिशों का दौर आएगा

तेरा अपना जब सूली चढ़ जायेगा
ख़ुद अपने आँसूओ में डूब जायेगा

डराता है बन्दुक की नोक पर ज़ाहिल
मौत आएगी ,खुद डर के मर जायेगा

बदला लेने की फितरत ना पाल”साहिल
घर जलाके अपना ,तू अँधेरा ही पायेगा

सूर्य करण सोनी #अग्निवृष्टि ?
11-7-2017

Author
Surya Karan
Govt.Teacher, M.A. B.ed (eng.) Writer.
Recommended Posts
दर्द है, आँखों से मोती बन निकल ही जायेगा
दर्द है, आँखों से मोती बन निकल ही जायेगा सिरफिरा बन अब तू किधर को जायेगा ना होगा साथी कोई तेरे सफर का अब तू... Read more
**    मंजर मौत का  ***
मंजर मौत का देखकर यह ख़ंजर भी डर जायेगा सब्रकर ख़ुदा के बन्दे ख़ुद ख़ुदा क्या कर जायेगा नेमतें मांगी दुआ में जिसके लिए तुमने... Read more
** इंसान हो तुम **
प्रारम्भिक बोल ********** कश्तियां यूं ही डूबती रह जायेगी होंसला है जिसके हाथ वो पार सागर कर जायेगा तर जायेगा बिन पतवार ******************** इंसान हो... Read more
चन्दा का धन्धा
ये चन्दा का धन्धा तू कब तक करेगा, मरे को ही जिन्दा तू कब तक करेगा। ये नफरत का कांटा पिघल जायेगा सब ये झूठे... Read more