कवितागज़ल/गीतिकामुक्तकगीतलेखदोहेलघु कथाकहानीकुण्डलियाहाइकुबाल कविताघनाक्षरीतेवरीकव्वाली

प्याज के बढते दाम

टूट गई यारी सलाद की प्याज से प्याज हुआ मंहगा मूल ब्याज से सलाद में प्याज, होता है सरदार प्याज बिन दाल रोटी बेअसरदार मंहगाई मे... Read more

'नेता जी बचालो देश को'

नेता जी बचालो देश को, अब घूमो ना परदेश को। अर्थव्यवस्था की डूबी लुटिया, लाचार हो रही घर की बिटिया। अनभिज्ञ नहीं तुम सच्चाई से,... Read more

विवाह एक उत्सव

आती जब परिणय की घड़ी झूम उठता मन मयूर गूंज उठती ढोल शहनाई सज जाता घर तोरण कलश विवाह है पवित्र बंधन करें सम्मान ब... Read more

" फसलें खूब धुली इस बार " !!

पानी ने सब पानी फेरा , फसलें खूब धुली इस बार ! हाथ सभी के खाली खाली , वाह रे खूब करी करतार !! आँखों में कुछ दिवास्वप्न थे , उ... Read more

" चलना बड़ा कठिन है " !!

नई राह है नई डगर है , चलना बड़ा कठिन है !! रिश्तों के अनुबंध नये हैं , नई नई सौगंध ! देह सजी है मनसिज नाचे , टूट गये कसे बंध !... Read more

*मुक्तक*

सहा हो जिसने बस उसी को पता होता है ! सब दर्द देखने वालों को कहाँ पता होता है !! कुछ दर्द ज़िन्दगी ख़त्म कर दिया करते हैं ! हर दर्द ... Read more

वक्त की यारी

वक्त की यारी तो हर कोई करता है ज़नाब! मजा तो तब है वक्त बदले पर यार न बदले! 🍁-AnoopS© Read more

पूजा (हाइकु विधा)

1 खुश बुजुर्ग मिलता आशीर्वाद सच्ची है पूजा 2 दादी की पूजा घंटी टीका प्रसाद हैं खुश देव 3 लगाओ पेड़ फैली है हरियाल... Read more

रावण की मनकही

रावण की मनकही ! ------------------------ काठ का पुतला जला कर खुश हो तो रहे हो अपने मन के रावण को जला पाओ, तो जानूं ! आए सीता ज... Read more

रौनक

रौनक ------- पूरे परिवार को एकसूत्र में पिरोकर रखने वाली , सबकी चिंता और परवाह करने में मगन खुद के प्रति बेपरवाह रहने वाली , गाहे... Read more

सवेरा हो जाए

फिर से काश कोई ऐसा सवेरा हो जाए! जिस में मैं तेरा और तू मेरा हो जाए! ज़िन्दगी मेरी सिर्फ तेरे लिए हो ख़ास! तू ही हो मेरी धड़कन... Read more

परख लॉबिंग लिंचिंग अतिवृष्टि

मैं कहिन आँखिन देखी, तुम फँसे अपनी कथनी , व्रत किया उपवास नहीं, लिये खडे धूप अगरबत्ती, मेरी चाहत मुझ ही से पूरी . आज नहीं कोई... Read more

प्यार

प्यार की इंतेहा नहीं होती । प्यार की ज़ुबाँ नहीं होती। प्यार तो एक ए़़हसास है । जो दिल से म़हसूस किया नज़रों से बयां किया जाता है... Read more

प्रकाश पुंज

विनम्र निवेदन ------------------ ज्ञान के प्रकाश की तलाश केवल उन्हीं पारंपरिक तरीकों से मत करो जो तुम्हारे जन्म लेते ही समाज द्वार... Read more

सोच रहा क्या मन में,

पिंजरा तो खाली करना है, रहता किस उलझन में, ... Read more

बेटी

माँ जननी के जिगर का टुकड़ा है बेटी पिता का स्वाभिमान अभिमान है बेटी सांसों की कीमत पर सदा पलती बेटी दहेज की बलि पर चढती जलती बेटी ... Read more

मेरे तीखे शब्द

सोचो समझो इन बातो को, इन पे करो विचार काम करो अब तुम हिम्मत से नई तो जेहो हार संस्कार, संस्कृति, सदाचार, सद्चरित्र, सम्मान ... Read more

मैं तुम हम अभी जवां जवां

मैं-तुम-हम अभी जवां जवां जिन्दगी भी है आब-ए-रवाँ उम्र की छाप नहीं दिख रही ताजगी जीवन में अभी यहाँ बेशक आजीवन रहे जटिल मुस्क... Read more

'मोमबत्ती'

तू भी जली , मैं भी जली। तू मोम सी थी, इस लिये जली। मैं मोम की थी, इस लिये जली। तू छिपाने के लिये जली, मैं दिखाने के लिये जली।... Read more

जिद...

गर करोगे जिद तो नतीजा नहीं निकलता हैं! रास्ता भी बदल लेगा जो तेरे साथ चलता हैं! सूरज जैसे निकलता हैं निकलता ही रहेगा! जब ढलता ह... Read more

दर्द अपनों का

मत करो झूठे वादे अपनों से बड़ा दर्द होता है जब वो पूरे होते नहीँ करते हैं वादा बच्चे माता पिता से खूब पैसा कमा कर... Read more

मुक्तक

मुश्किलों को देख कर भी वीर घबराते नहीं। चल पड़े जिस राह पर फिर, लौट कर आते नहीं। कर्म योद्धा जो बना सब,यत्न से हासिल करें- मंजि... Read more

नित्य जपो मन मेरे,जय श्री राम।

विधा-बरवै छन्द ****************** नित्य जपो मन मेरे,जय श्री राम। प्यारा प्रभु की नगरी, प्यारा नाम।। जीवन छोटी नैया, प्रभु पतव... Read more

सफलता

इस भागती ज़िन्दगी मे किसी के पास वक्त नही है कि समझ सके जिस दिशा मे वह जा रहा है क्या यह वह दिशा है? जो उसके गन्त्वय तक पहुँचायेगी। ... Read more

मिला नहीं

मिला नहीं, और इस बात का कोई गिला नहीं, मिल भी जाता जो इस तरह, तो मिल कर भी तू मिलता नहीं, तेरा मिलना, इक यही तो किस्सा नहीं, ... Read more

आह्वान

आह्वान है यह हमारा सभी धर्मों के अनुयायियों से हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई बौद्ध जैन सभी भाईयों से सब मिलकर एकता से अनोखी सी एक रीत च... Read more

रूठे हुए हैं क्यों

ख्वाबों के सारे रंग वो झूठे हुए हैं क्यों शय सारे मेरे नाम से रूठे हुए हैं क्यों क्यों बहारें एक अर्से से यहां आती नहीं ये नज... Read more

हौसला...

कितनी शामे बस यू ही तन्हा गुज़र जाती हैं! तेरी यादे साँसों में जुनूँ बन के उतर जाती है! वक्त का क्या हैं गुज़रा हैं कुछ गुज़र जायेग... Read more

इश्क तो हो ही गया..

इश्क तो हो ही गया फिर अब छुपाना क्युँ है! परिंदों को तेज हवाओं से अब बचाना क्युँ है! क़ाफ़िले गुज़रे हुए बहुत वक्त हुआ “अनूप”! ... Read more

बेइंतहा इश्क़

तेरी यादें रोज़ तड़पा रही हैं हमे! तेरी हर आहट रुला रही हैं हमे! बेइंतहा इश्क़ किया हैं हमने तुझे! वही चाहत तो उलझा रही हैं हमे! ... Read more

मुक्तक

तिलंगाना की घटना से हुआ हैरान हर कोई, प्रियंका के दरद को सोच आखें रात भर रोई। दिया नारा जो था बेटी बचाने का बरस बीते, बता दो आज ... Read more

मुक्तक

जितने थे विरोधी जगत में वो अब खूब नपने लगे, देखकर बढती कामयाबी सिर सभी के तपने लगे। हुआ ऐसा करिश्मा देखो कुछ ही सालों में जनाब, व... Read more

मुक्तक

तू कब मुझसे ही है कहती, मैं तुझसे कब ही हूँ कहता। प्यार हमें दोनो को ही है, आखों से देखा हूँ बहता। जगी है उम्र के इस मोड, पर चाहत ... Read more

नारी सुरक्षा व सम्मान हेतु देशवासियों से एक अपील ......अब नहीं तो कब जागोगे ? ( कविता )

अब नहीं जागोगे तो कब जागोगे ? अपनी बेटियों के लिए होश में कब आओगे ? बेटी किसी की भी हो क्या फर्क पड़ता है?, हर बेटी हमारी आन है त... Read more

विचाराधीन तथ्य

में सोच रहा हू कि क्यों न इक बार गुरु जनो के हांथो में देश की कमान सौंपी जाए सच में जिस प्रकार वो बच्चो को पीट पीट कर पढ़ना लिखना औ... Read more

आज का कुत्ता

आज का कुत्ता देखो बिस्किट खाता कुत्ता , हमे रोज गुर्राता कुत्ता कुत्तों की सरदारी करके हमको धौंस दिखता कुत्ता घर में क... Read more

कुण्डलिया

किसान की जय बोलकर बहलाते हर बार, कुसूर हमरा क्या लगा समझाओ सरकार। समझाओ सरकार मूरख ही है बनाया, दिया भरोसा हमें माल है खूब उडाया... Read more

दोहा

दिए अवार्ड जा रहे लेते सीना तान। क्या अशोक पाकर इसे बने सब कवि महान।। अशोक छाबडा Read more

कुण्डलिया

सैल्फी सब हैं ले रहे सैल्फी का है दौर, तरह तरह के पोज से खींचे अपनी ओर। खींचे अपनी ओर कर देत सबको घायल, आया अच्छा पोज हो जात हैं ... Read more

गीत ....भारत मां कितनी प्रगति कर रही है

गीत .......भारत मां कितनी प्रगति कर रही है =========================== प्रगति की और हम कैसे बढ़ रहे हैं नफरतों की खूब सीढ़ियां... Read more

ग़ज़ल- आँखें बता रहीं हैं...

ग़ज़ल- आँखें बता रहीं हैं... ■■■■■■■■■■■■■■ आँखें बता रहीं हैं कि इनकार है नहीं शायद लबों ने झूठ कहा प्यार है नहीं दिल हारने क... Read more

'आडम्बर'

रुक जाता हूँ चलते चलते, थम जाती हैं सांँसें। देख दोगला रूप जहां का, मुंद जाती हैं आँखें।। मखमल-सी कोमल वाणी है, और चमकता तेज। ... Read more

होगा सवेरा अभी रात तो होने दो

होगा सवेरा अभी रात तो होने दो अभी रुको पूरी बात तो होने दो कब तक झुकी रहेगी पलक तेरे हाथो में मेरा हाथ तो होने दो।(अवनीश कुमार) Read more

तलाश...

हाज़िर हैं नयी गज़ल का मतला.... नज़र को ना जाने अब किस की तलाश हैं! ऐसे लगता हैं जैसे तु यही मेरे आसपास हैं! 🍁-AnoopS© 04 Nov 2019 Read more

बोले बाल गणेश

देख शीश शशि तात के,बोले बाल गणेश । यही खिलौना चाहिए, .हासत देख रमेश ।। खिसक गई पैरों तले ,......उनके तुरत जमीन ! उनसे ही धोखा ... Read more

आज फिर बैठा हूँ.....

आज फिर बैठा हूं कलम से उनके जुल्फ सवारने के लिए चल दिया उनके काजल को ग़ज़ल में उतारने के लिए बहुत आसान लगता होगा? कितने जत... Read more

रागनी नं० 32 सिर पै चढ़गी नौटंकी, धरती हालण नै होगी..!!

*वार्ता:-* रोजाना की तरह मालण नौटंकी के लिए हार लेकर जाती है। उस दिन नौ लड़ी का हार देखकर नौटंकी कहती हैं मालण किसनै बनाया यो हार त... Read more

"हैरानी"

हसीँ गुलनाज़-ए-मन्ज़र, अभी भी, याद में क्यूँ है, सिफ़त,अदबो-हुनर उसका,अभी भी ख़्याल मेँ क्यूँ है। चला जाता हूँ मैं, मानिन्दे-अफ़सू... Read more

नस़ीहत

ज़िन्दगी भर नफ़े नुक़सान का हिस़ाब रखा। जो लम़्हे गवाँ दिए उनका हिस़ाब ना रखा। अपनी खुशगवारी और खुदग़र्ज़ी में मश़गूल रहे दूसरों के दर... Read more

जाऊं भी तो कहाँ

जाऊं भी तो कहाँ???? जाऊं भी तो कहाँ कुछ समझ न आये कभी माँ की कोख में मार डालते.... तो कभी ज़िंदा रखने की कीमत मांगते.... हर वक़... Read more