कवितागज़ल/गीतिकामुक्तकगीतलेखदोहेलघु कथाकहानीकुण्डलियाहाइकुबाल कविताघनाक्षरीतेवरीकव्वाली

जिगक बीति हर रात पूछेगा

जागकर बीताई हर रात पूछेंगे ************************ जब मिल कर साथ साथ बैठेंगे बहुत बाते शेष साथ साथ करेंगे बहुत कुछ बाते अप... Read more

कुछ नही

में छुपाता किसी से कुछ नही बस में बताता किसी को कुछ नही में कर देता हु उसके काम सारे बस जताता किसी को कुछ नही वो देता है जम... Read more

प्रेम

*❣प्रेम यक़ीन दिलाने ♥️ का मोहताज नहीं होता. 😘* *एक दिल ♥️ धड़कता है तो दुजा समझता है..❣* Read more

चाहत

*❤चाहने वाले तो मिलते रहंगे* *तुझे सारी उम्र💞* *❤बस तू जिसे कभी भूल न पाए* *वो चाहत यक़ीनन हमारी होगी...!!! 💞* Read more

" अल्फाज़ "

🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗🤗 हमें आदत नहीं है किसी से नाराज़ होने की , क्योंकि हमें मालूम है इतना फुर्सत नहीं है हमें मनाने की । 😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊... Read more

Sls-ns कम हम भी नहीं

अमीर होंगे तुम लेकिन गरीब हम भी नहीं ।। लाखों में होंगे तुम लेकिन सैकड़े से कम हम भी नहीं ।। सुरज सा तेज होगा तुम्हारे चेहरे पर... Read more

बस कुछ ही दिनों की बात है

हिन्दी कविता 🌹 कोरोना का कहर 🌹 बस कुछ ही, दिनों की तो यह बात है मानव जीवन पर, थोड़ी सी घात है l दिन कठिन समय क... Read more

को-को

को-को बचपन में को-को मेरी मनपसंद चीजों को एका-एक बिलकुल मेरे सामने से कर देती थी गायब कहते थे परिजन फलां चीज को ले गई को-क... Read more

आमर सिंह चमकीला

अमर सिंह चमकीला ***************************** अमर सिंह चमकीला कमाल कर गया गायिकी में अमर अपना नाम कर गया 1. दुगरी का धनी राम ... Read more

एक डायलॉग

★पुराना शेर याद आ गया जो एक सेमिनार में लिखा था मैंने।★ चंद किताबें पढ़कर मेरे सिध्दांतों को समझने की कोशिश न करो। मेरे सिध्दांत... Read more

रात्रि को दीपक जगाना है

रात्रि को दीपक जलाना है ******************** रात्रि को दीपक जलाना हैं कोरोना जड़ से मिटाना है दीया ,मोमबत्ती या टॉर्च से तम... Read more

सेल्समैन

वैसे तो ज्यादातर खरीदारी मैं छोटी दुकानों या छोटे बाजार से ही करता हूँ, लेकिन जब भी मैं कभी किसी मॉल्स या बड़े बिग बाज़ार जैसे स्टोर स... Read more

मैं एक मजदूर हूं

मैं एक मजदूर हूं, महीने के अंत में ₹3000 कमाने वाला मैं एक मजदूर हूं, मेरा परिवार मुझसे दूर है मेरी बूढ़ी मां , मुझे ना देख प... Read more

कोरोना

कोरोना के कहर से ,आफत में हर जान । अपनी गलती की सजा ,भुगत रहा इंसान ।। भुगत रहा इंसान ,कर जीवों का संहार । विवशता वश देखे ,कुदरत ... Read more

मजबूर मजदूर

दरबार मे जिनके अरमान , औरों से थोड़े थे । सजा पा रहे वो ज्यादा , जो गुनहगार थोड़े थे । हालातों ने कुछ इस तरह इनका साथ निभाया ।... Read more

क्वारंटाइन मनाओ

पूर्व काल में रोम में हुए महान एक संत प्रेम से वैलेंटाइन कहलाए दुनिया में प्रेम का संदेशा लाए बोले बनो सामाजिक दुनिया में प्र... Read more

झूठ

ना जाने कितनी कहीं अनकही बातें साथ ले जाएंगे.. . लोग झूठ कहते हैं कीं., खाली हाथ आए थे., खाली हाथ जाएंगे.. . ..l Read more

"जहालत तब्लीगी जमात की"

"जहालत तब्लीगी जमात की" ~~~~~~~~~~~~~~~ मरकज़ शिक्षा ले चले,कोरोना के संग। हमला डॉक्टर पर करें,हुए बुद्धि से नंग। हुए बुद्धि से न... Read more

तक़दीर

तक़दीर मेरी मुझसे,सौ खेल रचाती है पल में ही उठाती है,क्षण में ही गिराती है जीवन की डगर बड़ी,कांटों से भरी है ये ये राह दिखाती ह... Read more

कोरोना पर भारी पड़ी एक गलती

दोस्तों आज मैं आपको अपने दिल की बात कहना चाहता हूं मैं किसी पार्टी या किसी कौम के समर्थन की बात नहीं कह रहा हूं न किसी कौम की खिलाफत... Read more

क्या लिखूं

सब लिख रहे हैं... सोचा मै भी लिखूं, पर समझ नहीं आ रहा क्या और किस पर लिखूं ??? क्या लिखूं उस देश पर ? जिसने पूरे विश्व को डाल... Read more

तन्हा मन

...........तन्हा मन........ ....क्या तुम लौट आओगे .... जब कभी सफर पर जाना हो । या कभी स्याह रात में डर से हाथ थामना हो । क्या ... Read more

तन्हा सफर

तन्हा होकर भी सफर करता हूं । सफर में रहकर हमसफ़र की तलाश करता हूं ।। कुछ वक्त बीत जाए मुलाकातों में । कुछ ख्वाहिशों पूरी हो जाए ... Read more

एक तरफा

एक तरफा जब में लिखूं तुम्हे , तब तुम मेरे अल्फाजों में महक जाना । जब तुम तन्हा महसूस करो तो चले आना ।। भटकता बावरा मन जब कहीं भटक... Read more

भरोसा

~भरोसा ~ मुझे भरोसा था । ओर मैने ज़िन्दगी भर के साथ के लिए हा कर दी । 4 महीने ओर 5 दिन की मुलाकात ओर बातो ने खुद को इतना यकीन तो ... Read more

वो वक्त

वो वक्त भी कमाल का था । जब तुम साथ थी वो यादे भी बेहिसाब थी । में वही टहरा रहा ,पर तुम बदल गई , तुमने रिश्ते तक बदल दिए । , इल्ज... Read more

तुम्हारी आदत

मैं आज भी तुम्हें लिख रहा हूँ तुम्हारा मुस्कुराना और तुम्हारी जुल्फों का बार बार तुम्हारे चेहरे पर आकर मेरा उन्हें हटाना, तुम्हें प... Read more

-: कुछ देर तो ठहरो :-

-: कुछ देर तो ठहरो :- बड़ी जल्दी में रहते हो अक्सर तुम , कुछ देर बैठ भी जाया करो , हाँ मालूम है , बड़ी जिम्मेदारियां है तुम पर अ... Read more

नारी

-: नारी :- दोस्ती समुंदर से करनी थी , और बहना नदी जैसा था उसे , भीड़ की शोर में गुम थी कब से वो , अब झरनों सा शोर करना था उसे, म... Read more

हर शक्स की एक कहानी है ।

हर शक्स की एक कहानी है , किसी की अधूरी किसी की पूरी जुबानी है , खाली सा है कोई शक्स मुझ में , बेरंग से हो गये है सपने, बहुत कुछ भू... Read more

संयोग का पल

संयोग का पल प्रकृति का चक्र तोड़ दिया, कोरोना ने उग्र रुप धारण किया । बचाव का शंखनाद हो गया, घर मेंं बंद (लॉकडाउन),एकमात्र रास... Read more

अप्रैल-फूल दोहा एकादशी

हाय! मार्च क्यों कर गया, यूँ जाने की भूल आया है सरकार फिर, आज अप्रैल-फूल // १. // आज अप्रैल-फूल है, खो गया कहाँ मार्च अँधेरे... Read more

सन्नाटा

‘सन्नाटे’ का जीवंत दर्शन सदियों बाद या शायद पहली बार मानव ने किया है- साक्षात्. ‘सन्नाटे’ को निकट से देखकर समझ में आ गया ह... Read more

महामारी

‘महामारी’ प्रचण्ड होने पर मारती है सबसे पहले धीरे-धीरे मानवता को, कोरोना के कहर ने सिद्ध कर दिया है एक प्रमेय की तरह.... Read more

प्रसंग वश-वचन-प्रण-या हठ!रुप एक और नाम का भेद!

युगों युगों से चली आ रही है यह प्रथा!कभी वचन,कहीं प्रण की कथा!आज हम उसको हठ कहते हैं,कुछ लोग इसे जीद भी कहते हैं! पर है यह एक प्रका... Read more

तकलीफ

*नज़रिया बदल के देख, हर तरफ नज़राने मिलेंगे* *ऐ ज़िन्दगी यहाँ तेरी तकलीफों के भी दीवाने मिलेंगे..!* Read more

लड़ना होगा

ताटक छंद तैयार सभी भारत वासी,लड़ाई बहुत होना है। अपनी सुरक्षा करते रहें ,कोरोना को धोना है। सुनो पहले धर्मांधता से, बाहर भी आना ... Read more

वाचाल पौधा

पगडंडी पर चलते एक पौधा देखा । देख चलता चला । पौधे ने कहा हे ! मूढ़ कहा चला कर अनदेखा । मैने उस पौधे को देखा जो था बोलता । बोला ... Read more

मानवता के शत्रुओ से अब युद्ध करना होगा ---आर के रस्तोगी

मानवता के शत्रुओ से ,अब युद्ध करना होगा | छिपे हुये है जो बिल में,उनको निकलना होगा || बचा रहे कुछ सपेरे,अपने जहरीले सांपों को | ... Read more

लॉकडाऊन में लव बर्डस

लॉकडाऊन में लव बर्डस †****************** सदैव रॉकडाऊन हो जो रहते थे लव बर्डस प्रेममयी क्रियाओं और क्रीड़ाओं में लीन-विलीन अनु... Read more

करेगा याद मेरे बाद मुझको

करेगा याद मेरे बाद मुझको किया है जिसने भी बर्बाद मुझको मुसलअल आ रही हैं हिचकियाँ क्यों वो शायद कर रहा है या... Read more

कोरोना पोजीटिव

खौफ तेरे नाम का जाता नही आज डरा सहमा हर इक इंसान है । कहां छुपा बैठा है पता नही तेरे वार से खबरदार हर इक सरकार है । ... Read more

दिल से खेलना

वक्त नही है आपको हमारे लिए । हम तो करना कुछ चाह रहे तुम्हारे लिए । उदास क्यो हो, खामोश क्यो हो ? नाराज क्यों हो, करते ऐतराज क्यों... Read more

लू

आ ही गई उमस भरी गर्मी । खोती चली जा रही नमी और नर्मी । वो दोपहर की है अब लू चली । हवाओ का झोंका गर्म हुआ अब । सबका माथा टनक रहा... Read more

दियासलाई और मानव

दियासलाई और मानव ****************** माचिस की डिबिया में बंद दियासलाइयों सा है मानव चरित्रों का कर्म जैसे एक ही डिब्बी में बं... Read more

च़ंद अंदाज़े ब़याँ

तेरे प़ैकर से लिखे हुए ख़तों को जब खोल कर देखता हूं तो तेरे मोहब्ब़त की खुश़बू ज़ेहन पर ताऱी हो जाती है। हम तो समझे थे ऱाहे उल्फ़त ... Read more

प्राण vs प्रण

प्राण भले ही चल जाएगा । पर प्रण न कभी जाएगा । कहा जो हमने था तुमसे । दृढ है अटल चाहे रहूं गम मे । भले क्यूं ही न मेरा सिर कट जा... Read more

विश्वासघाती लोग

दुनिया मे हमको क्यों ? बुरे लोग ही मिलते है । अच्छी बाते करते थे पहले । जिसका मैं कायल था । मिलते रहे हम उनसे । अपना समझकर हमद... Read more

गैरथम कहाँ हमे मिले

गैरतमंद कहाँ हमें मिले ****************** व्यवधान पैदा हैं करते समाधान कहाँ से मिले काँटो में रहते हम सदा बातें काँटों की हम... Read more

बदलते मानवीय मूल्य, घटती संवेदनशीलता !

बदलते मानवीय मूल्य, घटती संवेदनशीलता ! - डॉ० प्रदीप कुमार "दीप" जन्म से मनुष्य एक जैविक प्रक्रिया ... Read more