.
Skip to content

II दिल के काबिल II

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गज़ल/गीतिका

February 12, 2017

दिल के काबिल नहीं पर बिठाया उसे l
बुलंदियों से भी ऊपर उठाया उसे ll

मुझसे ही पूछता है वो पहचान अब l
नींव का एक पत्थर दिखाया उसे ll

मानता हूं वो रहबर रहा अजनबी l
बात सब राज की क्यों बताया उसे ll

कैसी तकरार है तुम भी आगे बढ़ो l
हार से जीत होती सिखाया उसे ll

फेल तू हो गया इम्तहा मे “सलिल” l
आइना जो मुकम्मल दिखाया उसे ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 मदयुक्त भ्रमर के गुंजन सी, करती हो भ्रमण मेरे उर पर। स्नेह भरी लतिका लगती , पड़ जाती दृष्टि जभी तुम पर।। अवयव की... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more