Skip to content
माँ ही सबकुछ है
#माँ_ही_सबकुछ_है माँ ही सबकुछ है, सबकुछ है माँ, माँ ही जननी है, ज़िन्दगी है माँ। मेरी भाषा भी है, परिभाषा है माँ, दिल मे भी... Read more
सच्ची बात
बुद्ध से बुद्धि मिली चन्द्रगुप्त से पहचान। अशोक से गरिमा मिली कबीर से मिला ज्ञान। ज्योतिबा से ज्योति मिली सावित्री से सम्मान। कान्त से साहित्य... Read more
धोखा
दुनियां में धोख़ा बहुत आम बात है..! यह सभी के जीवन में सामान्य बात है| अब सूरज को ही देख लो.. आता है #किरण के... Read more
नारी अबला
#नारी_अबला हे..! नारी.. तुम प्रमदा, तुम रूपसी, तुम प्रेयसी, तुम ही भार्या, तुम ही सौन्दर्या, तुम सुदर्शना, तुम अलभ्य अनिर्वचनीया| फिर भी तुम अबला..! हे..!... Read more
सियासत
पिछली सरकारों ने लूटा, हम भी छटपटा रहे हैं काम तो कुछ किया नही... एक-दूसरे की लूट गिना, जनता को रिझा रहे हैं| सत्ता में... Read more
शादियाँ
लोग़ कहते हैं...... जिसकी जहां लिखी होती है, वहीं होती है शादियां.. जोड़ियां ऊपर ही तय होती हैं, ऊपर वाला ही तय करता है.! तो... Read more
बेटी
#बेटी बेटी है तो ही कल है.. वह जीवन का हर पल है, वही संस्कार है, वही धर्म है, वह जीवन का हर सृजन है..... Read more