Skip to content
गज़ल
गज़ल -1222---1222---1222---1222 करे हम याद ईश्वर को वही किस्मत सुधारा है ख़फ़ा होना नहीं हम से मिरा तू ही सहारा है| तलातुम है घिरी कश्ती... Read more
गज़ल
गज़ल का –आर रदीफ –का 2122 2122 212 दाग लग जाएँ जो अगर इकरार को ध्यान रक्खो दामने किरदार का | तोहफा पाये कही तकरार... Read more
गीतिका
गीतिका 2122 2122 2122 212 ऋतु वसंत आई लगी कुदरत खिजाना आ गया फूल सब खिल –मिल लगे मानो जताना आ गया| ड़ाल आमों हरित... Read more
प्रभु भक्ति
प्रभु भक्ति प्रभु भक्ति में मन कब रमता है जीवन तो ये सोचो में चलता है| धन कमाने के भी ढंग करता हैं , कुछ... Read more