Skip to content

MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.

All Postsकविता (207)गज़ल/गीतिका (16)मुक्तक (27)गीत (2)शेर (3)दोहे (6)लघु कथा (4)हाइकु (14)
खुशी
(1) ???? दूसरों को खूश रखना अच्छी बात है, बशर्ते आप खुश रहे। खुद को खुश रखना जरूरी है, स्वार्थ नहीं। (2) ???? पहले खुद... Read more
खुशी
(1) ???? दूसरों को खूश रखना अच्छी बात है, बशर्ते आप खुश रहे। खुद को खुश रखना जरूरी है, स्वार्थ नहीं। (2) ???? पहले खुद... Read more
पिता
?पिता की सेवा सबसे बड़ी पूजा मिलता मेवा ? ?पिता पालन प्रेम का प्रशासन अनुशासन ? ?पिता निर्माण घर का अभिमान देते हैं ज्ञान ?... Read more
पिता
?पिता का रूप हैं ईश्वर स्वरूप हैं चारों धाम ? ?पिता की सेवा सबसे बड़ी पूजा मिलता मेवा ? ?पिता पालन प्रेम का प्रशासन अनुशासन... Read more
पिता
?पिता ताकत धौंस भरी आहट घर की छत ? ?पिता सहारा सपनों को साकारा दिया किनारा ? ?पिता गंभीर अंदर से वे धीर ऐसी तासीर... Read more
पिता
?पिता का साया वट वृक्ष की छाया सदा शांति सा ? ?पिता का साथ आशीष भरा हाथ रहें हमेशा ? ?पिता का कंधा मजबूत सुरक्षा... Read more
हे माँ सरस्वती, वीणावादिनी वर दे।
????? हे ब्रह्मा की मानस पुत्री, हे विद्या के अधिष्ठात्री देवी वर दे। हे माँ सरस्वती, वीणावादिनी वर दे। मेरी हर एक भावनाओं को स्वर... Read more
लोहड़ी
?????? सभी दोस्तों को लोहड़ी की हार्दिक शुभकामनाएं ?????? आज पर्व लोहड़ी, कल मकरसंक्राति। पौष माह की रात आखिरी, सूर्यास्त के बाद माघ पहली। उत्सव... Read more
नव वर्ष
सभी दोस्तों को नव वर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएं.... ????? गाता, गुनगुनाता, मन को हर्षाता, नव वर्ष आता। ????? पत्तों पर सरसराता, ठंड से ठिठुराता,... Read more
अलाव
???? देहाती दुनिया में पुरातन, प्रभावशाली तकनीक है अलाव। जो गरीबों को कंपकपाती, ठंढ़ की मार से करती है बचाव। ? श्वेत चादर ओढ़े कोहरे... Read more
गाँव
???? बूढ़ा बड़गदऔर पीपल का छाँव, गंगा किनारे मेरा छोटा - सा गाँव। कच्चे पक्के घर छोटी सी बस्ती, कलकल करती झरनों की मस्ती। चारो... Read more
नारी सृष्टि कारिणी
???? नारी करती प्राण उन्मन,नारी सृष्टि कारिणी। नियति का ये सत्य नियमन,नारी है नारायणी।। हर रूप पूजनीय तेरा,तू अनेक रूपधारिणी। युगों से तेरी प्रमुखता,तू आदिशक्तिरूपिणी।।... Read more
गौरा-गौरा बोलिये, भोला दौड़े आय।
???? गौरा-गौरा बोलिये,भोला दौड़े आय। गौरा को सुमरिये,भोला होगे सहाय। गौरा पूजन जो करे,सुहागन के वर पाय। गौरा के सुमिरन करे,भवसागर तर जाय। बिन गौरा... Read more
बचपन
???? खेलकूद भी चलता रहता है और लड़ना झगड़ना भी, बचपन में हम ऐसे ही होते हैं। कोई बात देर तक ठहर ही नहीं पाती,... Read more