Skip to content

कविता(पद्मज फेसबुक पर) ,पटना, सम्प्रति - लेखा पदाधिकारी, समाज कल्याण, बिहार सरकार, पटना

All Postsकविता (1)
मॉ क्यों?
मॉ क्यों लगती है मेरी किलकारी तुझको अपनी लाचारी मॉ क्यों करती हो तुम अपनी बिटिया से ही गद्दारी मॉ आ जाने दो ना मुझको... Read more