Skip to content

ग़ज़ल- रेत पर जिन्दगी

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

September 18, 2016

ग़ज़ल- रेत पर जिन्दगी
■■■■■■■■■■■■
रेत पर जिन्दगी का महल दोस्तोँ
ऐसा लगने लगा आजकल दोस्तोँ

क्या ग़ज़ब का तरीका है तुमने चुना
दोस्त बन के किया है कतल दोस्तोँ

ग़म से डर जाऊँगा ये जरूरी नहीँ
कीच से कब डरे है कमल दोस्तोँ

ग़म नहीँ है मुझे यार तुम सा मिला
चीज मिलती कहाँ अब असल दोस्तोँ

मेरे महबूब का कोई सानी नहीँ
कोई उसका नहीँ है बदल दोस्तोँ

जाने क्या सोचकर लूटते हो हमेँ
ले के जाओगे क्या चल-अचल दोस्तोँ

आज ‘आकाश’ क्योँ दूसरोँ के लिए
आँख होती नहीँ है सजल दोस्तोँ

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
गज़ल :-- ये उठे तूफान अक्सर जायजा करते नहीँ ॥
गज़ल :-- ये उठे तूफान अक्सर जायजा करते नहीँ ।। मापनी :-- 2122--2122--2122--212 दिल में शोले जो रखे हों वो जला करते नहीँ । क्या... Read more
ग़ज़ल- सताओगे मुझे लगता नहीं था
ग़ज़ल- सताओगे मुझे लगता नहीं था ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ सताओगे मुझे लगता नहीँ था तुम्हारे प्यार मेँ धोखा नहीँ था कभी आँखोँ मेँ आँखेँ डालते थे चुराओगे... Read more
ग़ज़ल
बिछडे, हुए, ,मिलेँ, तो, गज़ल, होती, है. खुशियोँ, के गुल खिलेँ, त गज़ल होती है. वर्शोँ से हैँ, आलस्य के, नशे मेँ हम सभी, पल,... Read more
भारत आज बन्द नहीँ होगा
कितना भी तुम जोर लगा लो ,भारत आज बन्द नहीँ होगा । सब मिल जुल कर पूल बना लो ,भारत आज बन्द नहीँ होगा ॥... Read more