.
Skip to content

ग़ज़ल- नहीं सोचा वही

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गज़ल/गीतिका

May 14, 2017

ग़ज़ल- नहीं सोचा वही…
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
नहीं सोचा वही हर बार निकला
सितमगर तो मेरा ही यार निकला

मुहब्बत से भरीं आँखें ये तेरी
लबों से क्यूँ मगर इंकार निकला

मुझे मिलती यकीनन आज मंजिल
किनारा ही मगर मझधार निकला

कलेजा ही हमारा फट गया ये
कि जबसे फूल है अंगार निकला

हँसाता एक बन्दा जो सभी को
हकीकत में बहुत बेजार निकला

जिसे ‘आकाश’ कहते थे भवँर है
वही बस एक है पतवार निकला

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
गजल गीत का सौदागर
मैं गजल गीत का सौदागर कुछ गीत बेचने निकला हूँ । जो दर्द दफन है सिने मे वो दर्द बेचने निकला हूँ ।। मैं गजल... Read more
ग़ज़ल :-- मेरे यार का दामन दागी निकला !!
ग़ज़ल :--मेरे यार का दामन दागी निकला !! गज़लकार :-- अनुज तिवारी "इन्दवार" मान बैठे हिम , वो आगी निकला ! मेरे यार का दामन... Read more
ग़ज़ल- जबसे निकला है बेवफा कोई
ग़ज़ल- जबसे निकला है बेवफा कोई ★★★★★★★★★★★★★★★★ जबसे निकला है बेवफा कोई मर्द हो के भी रो रहा कोई ... देखो कैसे उदास बैठा है... Read more
ग़ज़ल।मुझे हर दर्द मालुम है दवा पाने नही निकला ।
  ================ग़ज़ल================ तनिक आया हूँ गर्दिश में हवा खाने नही निकला । ग़मो का लुफ़्त लेता हूँ वफ़ा पाने नही निकला । बड़े दिन बाद पाया... Read more