.
Skip to content

हो गए बदनाम क्या जमाने में हम

बबीता अग्रवाल #कँवल

बबीता अग्रवाल #कँवल

गज़ल/गीतिका

November 25, 2016

राह पर वो सामने नज़र आने लगे मुझे
मुहब्बत के ही नाम पर बतियाने लगे मुझे

हो गए बदनाम क्या जमाने हम जरा
अंधे भी अब तो आँख दिखाने लगे मुझे

खाई है ठोकर मैने अपनो से ही यारों
देखो कैसे गैर भी अब सतानेे लगे मुझे

हो गई मुहब्बत मुझे जब से तुम से यार
बोल कड़वे भी सभी सुहाने लगे मुझे

कहते थे होती सुबह है मेरे ही दिद से
आज वो ही गैरों के संग चिढ़ाने लगे मुझे

गुलजार कर दी राह मेरी प्यार में सनम
शबनमी फुहारों से भिगाने लगे मुझे

याद दिला न मुझे अपने तराने प्यार के
दास्ताँ बेवफ़ाई की याद आनें लगे मुझे

परवाह नहीं जमाने की कँवल को तो यारों
सारे जहाँ की खुशियाँ वो दिलाने लगे मुझे

Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)
Recommended Posts
मिल गये हैं ख़ुशी के ख़ज़ाने मुझे
मिल गये हैं ख़ुशी के ख़ज़ाने मुझे ==================== ये गरीबी लगी है डराने मुझे! तंगदस्ती लगी है सताने मुझे! वक़्त रुकता नहीं वो चला जा... Read more
बीते दिनों को सोचकर, हम पछताने लगे,, जब याद मुझे अपने, गुज़रे हुए दिन आने लगे! फिर सम्भल कर उस वक़्त को, हम भुलाने लगे,,... Read more
होश हम अपने खोने लगे थे, सोच कर ये रोने लगे थे! थामकर उंगलिया चलना सिखाया जिसने मुझे, जब वो दुनिया से रुक्सत होने लगे... Read more
गरीबों पे निशाने
मुहब्बत में वो आजमाने लगे। कि पाने में जिनको ज़माने लगे।। कभी अजनबी बन सफर में मिले। कि देखो वही दिल पे छाने लगे।। खबर... Read more