Skip to content

** होली के पावन पर्व पर **

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

March 5, 2017

****??******
होली के पावन पर्व पर
मनभेद मतभेद मिटाकर
मेरे सभी मित्रों के लिए
मुँह मीठा कीजिए और
दिल में मधुर कल्पना
करते रहिए सुबह तक
रंगो में सराबोर होने से
पहले आस्वादन कीजिए
मेरी तरफ से सुस्वादु
मिठाई का और तन मन
जुबान को मीठा बनाइए
इस होली के पावन पर्व पर
सभी को शुभकामनाऐ ।।?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
बुरा न मानो होली है
होली है फागुन का महीना है, उड़ रहा है अबीर होली का पर्व है रे, मनवा हुआ अधीर चले पिचकारी सारा रा होली है आरा... Read more
होली
होली पर्व है प्रेम का, भाई चारा धर्म। मन का कलुष मिटाइए, समझ ज्ञान का मर्म।। समझ ज्ञान का मर्म, जैन शिन्तो ईसाई। हिन्दू मुस्लिम... Read more
होली है भई होली है
दिन दमकता, शाम शामली, पुरवइया ने बाँह थाम ली, नव - पल्लव करताल बजाते, भ्रमर नाचते कली - कली, फगुनाई के मौसम में, हृदय में... Read more
बुरा न मानो होली है। (हाईकू)
बुरा न मानो होली है। (होली की हाईकू। 5-7-5 बुरा न मानो होली है जी होली हैं रंग उड़ाओ। रंग उड़ाओ शिकवे भूलकर खुशी मनाओं।... Read more