.
Skip to content

हाय लगेगी तुमको प्रियतम

Ananya Shree

Ananya Shree

कविता

January 28, 2017

?”रुबाई छंद”?

हाय लगेगी तुमको प्रियतम, मेरे दिल को मत तोड़ो।
रात रात भर जागोगे फिर, अखियाँ मुझसे यदि मोड़ो।
भूख प्यास सब उड़ जायेगी, मारे मारे भटकोगे।
भेष बनेगा पागल जैसा, प्रेम डगर को यदि छोडो।

?अनन्या “श्री”?

Author
Ananya Shree
प्रधान सम्पादिका "नारी तू कल्याणी हिंदी राष्ट्रीय मासिक पत्रिका"
Recommended Posts
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more