.
Skip to content

हाइकू

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

हाइकु

March 2, 2017

हुरियार हायकू….

??????????

ब्रज की होरी
बचै ना कोई कारी,
ना कोई गोरी।

नन्द कौ लाल
भरि-भरि मारत,
रंग-गुलाल।

आज खेलत
ब्रज में फाग हरी,
सखी बच री।

जमना तीर
गुपाल उड़ावत,
रंग-अबीर।

कोई जाओ ना
जमना तीर ,रंगै
रंग ते कान्हा।

रंग दी चोली,
पिया रंगरेज की,
रँगीली होली।

चलौ री सखी
मिल कें डारें रंग,
राधिका संग।

जग में होरी
या ब्रज होरा ,सखि
नन्द कौ छोरा।

रंग रंगीलौ
रोकै गैल मुरार,
करौ री पीलौ।

लै पिचकारी
मारत ‘तेज’ कुमार,
रंग की धार।

??????????
तेजवीर सिंह “तेज”✍

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more
मै भी भीग जाऊँ!!
मैं भी भीग जाऊँ। ........................ सोचता हूँ एकबार मैं भी भीग जाऊँ। इस बरसात प्रिय के साथ घनी जुल्फों की छाव में प्रियतम की बाहों... Read more
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 मदयुक्त भ्रमर के गुंजन सी, करती हो भ्रमण मेरे उर पर। स्नेह भरी लतिका लगती , पड़ जाती दृष्टि जभी तुम पर।। अवयव की... Read more