.
Skip to content

हाइकू

Chandra Prakash

Chandra Prakash

हाइकु

August 15, 2017

हाइकु
1
प्रेम उर में
बिछोड़ शरीर में
नीर नैन में ।

2
जिन्दा को लात
मारने पर श्राद्ध
पिण्ड व भात ।

3
छोटा सा बच्चा
पांच किलो का बस्ता
स्कूली में शिक्षा ।

4
मजे में नेता
भूखे लोग,जनता
देश बनता ।

5
हृदय श्रान्त ,
मौलिकता का अन्त
मन अशान्त ।

6

रंग हजार .
हर रंग से प्यार
तुम्हारे यार ।।

7
हैं वन नहीं
है ऑक्सीजन नहीं
जीवन नहीं ।

8
गन्दी नाली में
शहरों की लाली में
रातें काली हैं ।।

9
छोटे कोठों में
बदनाम जिन्दगी
बड़े आदर्श ।।

10
एक रोटी है
बच्चे चार भूखे हैं
माँ पानी पीती ।।

11
दर्द घर में
जंग शरहदों में
नेता गबन

12
राजनीति में
ईमानदार बिकता
बोली नेता की ।।

माणिक्य बहुगुणा

Author
Chandra Prakash
Recommended Posts
मोहे प्रीत के रंग रंगना
रंग से नही रंगना, सजन मोहे अपने रंग में रंगना ! कच्चे रंग दिखावे के, मोहे प्रीत के पक्के रंग रंगना !! ! बारह महीनो... Read more
सप्त रंगो की चुनर
एक गीत सादर प्रस्तुत इन्द्रधनुष के सप्त रंगो से चुनर को रंग दूंगा , लाल, गुलाबी, नीला, पीला, बैंगनी रंग, रंग दूंगा । अम्बर से... Read more
@@@ रंग @@@
[[[[ रंग ]]]] वाह ! रंग भी क्या शब्द है, क्या भाव है, क्या अर्थ है || बिना इस रंग के संसार में भूमि-नभ-जीवन व्यर्थ... Read more
हाइकु वाटिका की समीक्षा
हाइकु वाटिका [साझा हाइकु संग्रह] संपादक - प्रदीप कुमार दाश "दीपक" प्रकाशक :    माण्डवी प्रकाशन, गाजियावाद (उ.प्र.) प्रकाशन वर्ष : फरवरी 2004      मूल्य : 100/----... Read more